मानसून की बेरुखी ने खरीफ फसल के बेहतर उत्पादन पर लगाया ग्रहण; सावन शुरू होने के बाद भी अब तक धनरोपनी ने नहीं पकड़ी रफ्तार

IMG 20220723 WA0098

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

समस्तीपुर :- मानसून की बेरुखी ने खरीफ फसल के बेहतर उत्पादन पर ग्रहण लगा दिया है। सावन शुरू होने के बाद भी अब तक धनरोपनी रफ्तार नहीं पकड़ सकी है। कृषि विभाग की माने तो 83 फीसदी बिचड़ा गिराया गया है। मगर 15 फीसदी से अधिक बोआई नहीं हो पायी है। जबकि 15 जुलाई तक लंबी अवधि वाले धान की बोआई हो जानी चाहिए।

इसके बाद बोआई होती है तो उत्पादन पर प्रतिकूल असर पड़ता है। ऐसे में लंबी अवधि वाले प्रभेदों की बोआई के लिए किसानों के पास मात्र 8 दिन का ही उपयुक्त समय बचा है। हालांकि जिले के किसान 31 जुलाई तक खेत में धान की बोआई करते हैं। लेकिन देर से बोआई के कारण अच्छी उपज नहीं हो पाती।

IMG 20230522 WA0020

IMG 20230604 105636 460

इधर बारिश सही से नहीं होने के कारण नर्सरी में ही धान के बिचड़ा का ग्रोथ नहीं हो रहा है। जुलाई में भी बारिश की स्थिति अच्छी नहीं दिख रही है। तेज पुरवैया हवा फिर से चलना शुरू हुआ है। बादल मंडरा रहे हैं, लेकिन झमाझम वर्षा नहीं हो रही है। किसान पुरवैया हवा को इस समय बेहतर नहीं मानते।

Sanjivani Hospital New Flex 2023 Bittu G

जिले में कहीं-कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश हो जा रही है। जून से जुलाई माह में अब तक 63 एमएम बारिश हुई है। जबकि कम से कम 184 एमएम बारिश की अभी जरूरी है। कुछ किसानों ने अपने निजी बोरिंग व पंपसेट से रोपनी शुरू भी की है तो डीजल की महंगाई से खेती महंगी पड़ रही है। जिले में धान 79835.2 हेक्टेयर में धान की खेती होनी है। पिछले साल 25 जून तक धान की रोपनी कर ली गई थी।

IMG 20230701 WA0080

IMG 20230324 WA0187 01

IMG 20230606 WA0083

IMG 20230620 WA0060

IMG 20230416 WA0006 01

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *