समस्तीपुर में 26 साल का रिकॉर्ड टूटा, तीसरे दिन भी नहीं खिली धूप, शीतलहर के दौरान दिन का पारा 13.7 डिग्री पर पहुंचा

IMG 20221030 WA0004

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

समस्तीपुर :- समस्तीपुर सहित उत्तर बिहार में 3 दिनों से कड़ाके की ठंड पड़ रही है शीतलहर की चपेट में पूरा उत्तर बिहार है। ठंड में पिछले 26 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। अधिकतम तापमान में हुई भारी गिरावट के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है। बुधवार को अधिकतम तापमान 13.7 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। आज से 26 साल पहले 1998 में अधिकतम तापमान 14.4 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था।

कृषि वैज्ञानिक अब्दुल सत्तार ने बताया कि यह स्थिति अभी दो-तीन दिनों तक जारी रह सकती है। लगातार सूरज के नहीं निकलने के कारण कनकनी बढ़ी हुई है। 4 से 6 किलोमीटर की रफ्तार से चल रही पछिया हवा ने ठंड को और बढ़ा दी है। बुधवार को अधिकतम तापमान 13.7 रिकॉर्ड किया गया जो सामान्य तापमान से 7.7‌ डिग्री कम है। ‌ न्यूनतम तापमान 10.8 डिग्री रिकॉर्ड किया गया जो सामान्य से 3.1 डिग्री अधिक है। बुधवार को विजिबिलिटी करीब 30 मीटर रिकॉर्ड किया गया है।

Banner 03 01

ठंड की यही स्थिति अगले दो-तीन दिनों तक बनी रह सकती है

सापेक्ष आर्द्रता सुबह में 88% व दोपहर में 82% रिकॉर्ड किया गया है। 4.3 कि०मी प्रति घंटे की रफ्तार से पछिया हवा चल रही है। उधर कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉ अब्दुल सत्तार ने कहा कि अभी यही स्थिति अगले 2 दिन दो-तीन दिनों तक बनी रह सकती है जिससे समस्तीपुर समेत उत्तर बिहार में कड़ाके की ठंड पड़ेगी। अधिकतम तापमान और न्यूनतम तापमान में और गिरावट होने की संभावना है।

new file page 0001 1

फसलों की देखभाल की आवश्यकता :

मौसम वैज्ञानिक ने लंबे समय तक जाड़े का असर होने के साथ ही इसके अधिक असर पड़ने की संभावना भी जताई है। इसका असर दिखने भी लगा है। दिन-प्रतिदिन तापमान में कमी आ रही है। सुबह और रात के तापमान में काफी गिरावट दर्ज की जा रही है। विशेषकर उत्तर भारत में जाड़े का प्रकोप कुछ अधिक ही रहता है। इसका प्रभाव इंसानों, जानवरों के साथ ही फसलों पर भी पड़ता है। अधिक सर्दी से फसलों की उत्पादकता पर विपरीत असर पड़ता है।

IMG 20211012 WA0017

JPCS3 01

1 840x760 1

1080 x 608

IMG 20221203 WA0074 01

Samastipur News Page Design 1 scaled

IMG 20221203 WA0079 01

Post 183

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.