लालू को किडनी देने वाली बेटी रोहिणी का सरनेम आचार्य क्यों रखा गया, यादव क्यों नहीं ?

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू यादव को उनकी बेटी रोहिणी आचार्य की एक किडनी सिंगापुर में ट्रांसप्लांट कर दी गई है। ऑपरेशन सफल रहा है और बिहार में दोनों की सलामती के लिए दुआ और हवन का दौर चल रहा है। रोहिणी के अपने पिता लालू को किडनी देने के फैसले की हर तरफ तारीफ हो रही है। लोग इसे बेटी और बाप के प्यार भरे रिश्ते से जोड़कर देख रहे हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि लालू यादव परिवार की दूसरी बेटी रोहिणी का सरनेम आचार्य क्यों है ? मीसा भारती को छोड़ दें तो लालू की बाकी 5 बेटियों के नाम में शादी से पहले और दोनों बेटों के नाम में सरनेम यादव ही है।

यह कहानी उस दौर की है जब लालू ना मुख्यमंत्री थे और ना आरजेडी के अध्यक्ष। लेकिन ये कहानी बताती है कि लालू किस कदर खुशमिजाज और लोगों का मन जीत लेने वाले अदाकार थे। तो जानिए रोहिणी का नाम रोहिणी यादव के बदले रोहिणी आचार्य रखे जाने का वो राज जो मीडिया में आज तक किसी ने नहीं बताया होगा और लालू-राबड़ी परिवार के बाहर बहुत कम लोगों को पता होगा।

IMG 20221030 WA0023

रोहिणी का जन्म ऑपरेशन से हुआ था। ऑपरेशन किया था पटना की बहुत मशहूर और कद्दावर महिला मामलों की डॉक्टर कमला आचार्य ने। रोहिणी लालू-राबड़ी का दूसरा बच्चा थीं। डॉक्टर कमला आचार्य लालू यादव को बहुत मानती थीं। ऑपरेशन सफल रहा तो फीस देने की बात उठी। लालू ने कहा कि फीस ले लीजिए। कमला आचार्य अड़ गईं कि नहीं, आपसे क्या फीस लेना। लालू भी जिद पर अड़े तो कमला आचार्य ने कहा कि अगर आप कुछ देने ही चाहते हैं तो इस बेटी को मेरा सरनेम दे दीजिए। यही मेरी फीस होगी और यही मेरा सौभाग्य होगा।

IMG 20220728 WA0089

नक्षत्र से नाम हुआ रोहिणी और महिला डॉक्टर के सरनेम से मिला आचार्य

हाजिरजवाबी और लोगों का दिल जीतने के हुनरमंद लालू यादव ने फौरन तय कर दिया कि ऐसा ही होगा। दूसरी बेटी का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था इसलिए नाम रोहिणी रखा गया और डॉक्टर कमला के सरनेम से आचार्य लेकर पूरा नाम तय हुआ रोहिणी आचार्य। लालू की बाकी बेटियों का नाम मीसा भारती, चंदा यादव, रागिनी यादव, हेमा यादव, अनुष्का यादव, राजलक्ष्मी यादव है। बेटों का नाम तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव है। सबके नाम में यादव है बस रोहिणी को छोड़कर क्योंकि आचार्य सरनेम लालू-राबड़ी परिवार से बाहर का है।

JPCS3 01

किडनी ट्रांसप्लांट ऑपरेशन से कुछ दिन पहले हिन्दुस्तान से बातचीत में रोहिणी यादव ने कहा- मेरा सरनेम एक-दूसरे के प्रति प्यार और सम्मान का प्रतीक है। मुझे गर्व है पापा पर जो कमला आंटी को सम्मान देने से पीछे नहीं हटे। रोहिणी ने कहा कि मेरे पिता ने सभी को सम्मान दिया लेकिन लोग उनको लेकर खूब झूठ-फरेब फैलाते रहे। फिर वो कहती हैं- लोगों का काम है अफवाह फैलाना।

IMG 20211012 WA0017

अपने पिता लालू यादव को किडनी देने के फैसले पर रोहिणी कहती हैं- किडनी दान करने का साहसिक काम हमारे देश की मामूली जनता ही कर सकती है। खास लोग किसी की मजबूरी या गरीबी खरीद सकते हैं या खास लोगों को कभी जरूरत ही नहीं पड़ी होगी, कभी बीमार हुए ही नहीं होंगे। लालू के शरीर में अब रोहिणी की एक किडनी काम करेगी। दुनिया में ऐसा करने वाली गिनी-चुनी बेटियों में वो शामिल हो गई हैं। देश में बाप-बेटी के रिश्ते की गहराई को जब भी नापा जाएगा, रोहिणी का नाम भी उसमें शामिल होगा।

1 840x760 1Banner 03 01IMG 20221203 WA0079 01IMG 20221117 WA0072IMG 20221203 WA0074 01Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.