बिहार: बाघ की लाश पर लाठी लेकर टूटी थी भीड़…1000 पर FIR, पशु क्रूरता समेत 13 धाराओं में केस

बिहार के बगहा जिले में वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के आदमखोर बाघ को बलुआ में शनिवार मार गिराया गया। इसके बाद ग्रामीणों ने बाघ के शव के साथ अमानवीयता की थी। कुछ उसके बाल नोंच रहे थे तो कुछ लाठियां लेकर उसे मारने के लिए दौड़े थे। पुलिस वालों के साथ भी धक्कामुक्की की गई थी। गाड़ियों में भी तोड़फोड़ हुई। अब इस मामले में 150 नामजद समेत 1000 लोगों के खिलाफ पशु क्रूरता समेत 13 धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

जब पुलिस और वन विभाग की टीम लाश लेकर जाने लगी तो कुछ ग्रामीणों को इस बात का विश्वास नहीं हो रहा था कि वाकई बाघ की मौत हो चुकी है। कुछ ग्रामीण अंधविश्वास के चक्कर में बाघ के बाल नोंचते नजर आए थे। तो कई लाठियां लेकर बाघ की लाश को मारने के लिए दौड़ गए।

IMG 20220723 WA0098

अब इस पर प्रशासन ने एक्शन लेते हुए बड़ी कार्रवाई की है। इस मामले में 125 नामजद के साथ एक हजार अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया है। इन लोगों पर अब पुलिस इस मामले में पशु क्रूरता अधिनियम समेत सरकारी वाहन के तोड़फोड़ समेत सरकारी कार्य मे बाधा पहुंचाने के मामले में ग्रामीणों पर प्राथमिकी दर्ज की है।

एसपी किरण कुमार गोरख जाधव ने बताया है कि प्रदर्शनकारियों को वीडियो फुटेज के माध्यम से चिह्नित कर गोवर्धना थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। जिसमें 13 सुसंगत धाराओं में पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया है। यह एफआईआर गोबर्धना के थानेदार राकेश रंजन के बयान पर दर्ज हुआ है।

IMG 20220728 WA0089

बता दें कि बाघ ने डेढ़ माह के भीतर 9 लोगों को मार डाला था जिसके बाद बिहार के इतिहास में यह पहली बार ऐसा हुआ जब किसी बाघ या वन्य जीव को शूट एंड साइट यानी देखते ही गोली मारने का आदेश दिया गया। इसका ऑर्डर चीफ वार्डन प्रभात गुप्ता द्वारा दिया गया था। दरअसल ग्रामीणों को यह आशंका थी कि बाघ को ट्रेंकुलाइज कर सिर्फ बेहोश किया गया है।

IMG 20220828 WA0028

जब गन्ना के खेत से वनकर्मी मृत बाघ को लेकर निकले और ट्रैक्टर पर उसे रख कर ले जाने लगे तब ग्रामीणों का हुजूम बाघ को ले जाने से रोकने लगा और पदाधिकारियों से उसे दिखाने की मांग करने लगे। ग्रामीण आश्वस्त होना चाहते थे कि नरभक्षी बाघ को सच में मार दिया गया है। ऐसे में ग्रामीणों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया और मारपीट पर उतारू हो गए।

JPCS3 01

इस ट्रैक्टर पर बाघ का शव रखा था उस ट्रैक्टर को ग्रामीण तोड़ने पर आमादा थे। ग्रामीणों को शांत कराने में पुलिस बल समेत अधिकारियों को काफी मशक्कत करना पड़ा। प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने एसपी के साथ भी बदसलूकी करने में कोई कोर कसर नही छोड़ा। स्थानीय जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों द्वारा काफी मान-मनौव्वल के बाद ग्रामीणों ने गाड़ी को गोवर्धना वन रेंज के कार्यालय में जाने दिया।

IMG 20220928 WA0044IMG 20211012 WA00171 840x760 1Picsart 22 09 15 06 54 45 312IMG 20220915 WA0001IMG 20220331 WA0074

Leave a Reply

Your email address will not be published.