विद्यापतिनगर में अंचल कार्यालय पर सीपीआईएम का जोरदार प्रदर्शन

IMG 20221030 WA0023

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

समस्तीपुर/विद्यापतिनगर [पदमाकर सिंह लाला] :- प्रखंड अंतर्गत पंचायतों के विभिन्न पोखर के भिंडा किनारे बसे हुए गरीब भूमिहीन परिवारों को उजाड़ने की कार्रवाई के खिलाफ एवं तमाम भूमिहीन परिवारों को बसने के लिए जमीन देने की मांग को लेकर सीपीआईएम कार्यकर्ताओं ने अंचल कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया।

गरीबों का घर उजाड़ना बंद करो, सभी भूमिहीन परिवारों को बसने के लिए जमीन मुहैया करो, किसानों के लिए यूरिया खाद की किल्लत दूर करो आदि नारों के बीच जुटे प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए सीपीआईएम के जिला मंत्री रामाश्रय महतो ने कहा की आज पूरे बिहार में हाईकोर्ट के हस्तक्षेप से पोखर भिंडा किनारे बसे हुए लोगों को उजाड़ने की कार्यवाही चल रही है।

IMG 20211012 WA0017

इस कार्रवाई पर तुरंत रोक लगनी चाहिए और बिना वैकल्पिक इंतजाम के ऐसा किया जाना अन्यायपूर्ण है। हमारी पार्टीइसका पुरजोर विरोध करती है। और इसके खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी। वरिष्ठ नेता कामरेड अर्जुन राय की अध्यक्ष्ता में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अंचल सचिव कॉमरेड विधानचंद्र ने कहा कि गरीबों के हक अधिकार के लिए लड़ते हुए हमारे दर्जनों साथियों ने शहादत दिया है। हम इस कुर्बानी को बेकार नहीं होने देंगे भूमिहीनों की लड़ाई जोरदार तरीके से लड़ी जाएगी।

1 840x760 1

प्रदर्शन को सीपीआईएम जिला सचिव मंडल सदस्य कामरेड उपेंद्र राय, एडवा की राज्य सचिव नीलम देवी, रंजीत कुमार, रंधीर कुमार,राम गोबिन राय,राम सेवक राय, राम कांत यादव,राम नरेश यादव आदि ने संबोधित करते हुए गरीबों के इस जमीन की लड़ाई के साथ एकजुटता का इजहार किया।

IMG 20220728 WA0089

अंत में 4 सदस्य प्रतिनिधिमंडल अंचलाधिकारी अजय कुमार से मिलकर तमाम भूमिहीनों का सर्वे कराकर बास के लिए 5 डिसमिल जमीन देने, घर उजाड़ने पर रोक लगाने, सड़क किनारे,बांध पर, पोखर पर बसे लोगों को बासगीत पर्चा देने,विस्थापित परिवार को पुनर्वास कराने सभी किसानों को यूरिया खाद उचित मूल्य पर उपलब्ध कराने आदि मांगो को लेकर ज्ञापन सौंपा ।

JPCS3 01

Banner 03 01

IMG 20221203 WA0074 01

IMG 20221203 WA0079 01

Samastipur News Page Design 1 scaled

1080 x 608

Post 183

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.