कोरोना के बाद युवाओं में बढ़ा हार्ट अटैक का खतरा, सतर्कता है जरूरी, जाने-माने चिकित्सक डॉ.आरके सिंह ने क्या कुछ कहा आप भी पढ़े…

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े

समस्तीपुर :- कोरोना को मात दे चुके लोगों को सचेत रहने की जरूरत है। ऐसा नहीं कि कोरोना के बाद अब उन्हें कुछ नहीं होगा। समस्तीपुर शहर के जाने-माने चिकित्सक सह SRS हॉस्पिटल के संचालक डॉ. आर के सिंह ने बताया कि कोरोना के बाद अब लोगों में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ गया है। हाल में हुए रिसर्च के मुताबिक कोरोना से ठीक हुए लोगों को हृदय से जुड़ी बीमारी होने का खतरा बढ़ा है। हंसते-खेलते या अन्य क्रियाकलाप करते हुए लोगों की अचानक हार्ट अटैक से मौत हो जा रही है। आए दिन ऐसी घटनाएं कहीं ना कहीं से सुनने को मिलती है।

डॉक्टर की माने तो करोना से उबरे लोगों का दिल कमजोर हो रहा है। जिन लोगों को पहले से दिल की बीमारी नहीं थी उनमें भी ऐसी समस्या देखने को मिल रही है। एज ग्रुप की बात करें तो 25 से 35 साल के युवाओं में दिल की बीमारी तेजी से बढ़ रही है। वर्तमान में 50 वर्ष से कम आयु वाले जवान लोग भी तेजी से हार्ट अटैक की चपेट में आ रहे हैं। जबकि कोविड-19 संक्रमण काल से पहले ऐसी घटना इक्के-दुक्के ही सामने आते थे।

उन्होंने कहा कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले लोगों के शरीर के कई अंग प्रभावित होते हैं। खासतौर पर दिल पर इसका ज्यादा असर होता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में हुए एक रिसर्च में दावा किया गया है कि कोविड संक्रमण से रिकवरी के बाद भी मरीजों को हार्ट अटैक स्ट्रोक ओर हार्ट फेल्योर का खतरा होता है। यह रिस्क उन लोगों को भी होता है जिन्हें बीमारी के हल्के या कोई लक्षण नहीं होते। कोरोना से ठीक हुए लोगों में इसे पोस्ट कोविड कार्डियक इलनेस कहा जाता है। कोविड से उबड़े कई मरीजों में दिल की पंपिंग कमजोर हुई है। दिल की धमनियों पर दबाव बढ़ने से नसों में सिकुड़न भी आ रही है। इससे युवाओं में भी हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ रहा है।

IMG 20211012 WA0017

शुरूआती लक्ष्ण :
  • सांस लेने में कठिनाई
  • कमजोरी और थकान
  • सीने में दर्द और जलन
  • अनियमित और तेजी से दिल का धड़कना
  • एक्सरसाइज करने में दिक्कत आना
  • चक्कर आना
  • गैस्ट्राइटिस का लक्षण
  • पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द
क्या है कारण :
  • लाइफ स्टाइल में बदलाव
  • काम का दबाव
  • खानपान में बदलाव
  • फास्ट फूड का बढ़ता प्रचलन
  • खून में अधिक कॉलेस्ट्राॅल का होना
  • अल्कोहल, कोल्ड-ड्रिंक, स्मोकिंग, अधिक भोजन करना और काम कम करना
  • डायबिटीज व हाई ब्लड प्रेशर
कैसे करें बचाव :
  • भरपूर नींद लें, शारीरिक श्रम करें
  • फल सब्जियों का अधिक सेवन करें, जंक फूड नहीं खाए
  • धूम्रपान व शराब के सेवन से बचें, मानसिक तनाव से बचें
  • रक्तचाप, गुर्दा और मधुमेह की समय-समय पर जांच कराते रहें

ProductMarketingAdMaker 14102019 082310

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.