बिहार के बेगूसराय में उद्धघाटन से पहले ही टूट कर गिरा ‘भ्रष्टाचार’ का पुल, 14 करोड़ की लागत से हुआ था निर्माण

बिहार के बेगूसराय के साहेबपुर कमाल में बूढ़ी गंडक नदी पर बना पुल बीच से टूट गया है। रविवार सुबह पुल टूटकर पानी में समा गया है। 9 सालों से इस पुल का काम चल रहा था। इस पुल का अभी उद्घाटन भी नहीं हुआ था। 14 करोड़ की लागत से इसे बनाया गया था।

2 दिन पहले गुरुवार को इसके पिलर नंबर 2-3 के बीच दरार देखी गई थी। इसके बाद से इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई थी। और रविवार को ये टूटकर नदी में समा गया।

पुल के धंसने और गार्डर में दरार की सूचना मिलते ही बलिया एसडीओ रोहित कुमार, एसडीपीओ कुमार वीर धीरेन्द्र, सीओ सतीश कुमार सिंह, सीआई अखिलेश राम एवं स्थानीय थाना की पुलिस दल-बल के साथ पहुंच स्थिति का जायजा लेने पहुंचे थे। तुरंत पुल के दोनों तरफ चौकीदार की तैनाती करने के साथ ही पुल के दोनों तरफ बैरिकेडिंग कर सभी तरह के वाहनों के परिचालन पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी।

IMG 20220723 WA0098

स्थानीय लोगों का मानना है कि इसे संयोग कहें कि अबतक इस पर किसी भारी वाहन का परिचालन शुरू नहीं किया जा सका है। वर्ना किसी बड़ी घटना से इनकार नहीं किया जा सकता था। रहुआ पंचायत के मुखिया सुबोध कुमार सिंह उर्फ मुन्ना सिंह ने बताया कि आहोक घाट सहित विष्णुपुर आहोक, रजौड़ा, गोविंदपुर, खांरदियारा आदि गांव के लोगों के लंबे समय से उठ रहे मांग के बाद साल 2012-13 में इस गंडक नदी पर पुल निर्माण को लेकर स्वीकृति मिली थी। जिसके निर्माण का जिम्मा मां भगवती कंस्ट्रक्शन को मिला था।

IMG 20220728 WA0089

इंजीनियर की विशेष टीम बुलाई गई थी

पुल की जांच के लिए शनिवार को इंजीनियर की विशेष टीम भी बुलाई गई थी। बावजूद पुल को बचाया नहीं जा सका। आपको जानकर हैरानी होगी कि महज 5 साल पहले यह पुल बनकर तैयार हुआ था। मां भगवती कंस्ट्रक्शन बेगूसराय ने 1343.32 लाख की लागत से 23 फरवरी 2016 से निर्माण कार्य शुरू किया था। और महज 1 साल बाद 22 अगस्त 2017 को यह पुल बनकर तैयार हो गया। और आज 5 साल बाद यह पुल टूट कर दो हिस्सों में बंट चुका है।

JPCS3 01

20000 लोग होंगे प्रभावित

यह पुल टूट जाने के कारण इलाके के 20,000 से ज्यादा लोग प्रभावित होंगे। खासकर, किसान लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि मवेशियों का चारा के लिए यह पुल काफी कारगर साबित हो रहा था। वही, इसका खामियाजा अब यहां के छात्र-छात्राओं और बीमार पीड़ित लोगों को भी भुगतना पड़ेगा।

IMG 20211012 WA0017

पुल बनने के बाद भी वाहनों के आवागमन पर थी रोक

स्थानीय लोगों का कहना है कि गंडक नदी पर यह पुल बनने के बावजूद भी वाहनों के आवागमन पर रोक थी। यह मार्ग अवरुद्ध रहने के कारण यहां के लोगों को मुख्य मार्ग NH-31 तक पहुंचने के लिए एकमात्र बांध मार्ग से ताड़ तर, उमेश नगर के रास्ते नन्हकू मंडल टोला तक लंबा और घुमावदार सफर तय करना पड़ता था। सुलभ सड़क नहीं रहने के कारण यहां तक कोई सवारी गाड़ी भी नहीं चलती थी।

Samastipur News Page Design 1 scaled

मालूम हो की काफी लंबे समय से उठ रही मांग के बाद साल 2012-13 में तत्कालीन विधायक सह बिहार सरकार के समाज कल्याण मंत्री परवीन अमानुल्लाह की पहल पर बूढ़ी गंडक नदी पर इस पुल के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हुई जो बनकर तैयार था है।

IMG 20221203 WA0074 01Banner 03 011 840x760 1IMG 20221203 WA0079 01Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.