48 घंटे के भीतर शराबबंदी कानून खत्म करें नीतीश-तेजस्वी, प्रशांत किशोर बोले-BJP को भी जवाब देना चाहिए

सारण (छपरा) में जहरीली शराब से मौत मामले में नीतीश सरकार पर भाजपा हमलावर है और सीएम से इस्तीफा की मांग का रहे हैं. इस बीच जन सुराज यात्रा पर निकले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने शराबबंदी को एक विफल योजना बताते हुए इसे 48 घंटे के भीतर रद्द करने की मांग की. इस दौरान उन्होंने भाजपा, नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव तीनों पर निशाना साधा. और सबको शराबबंदी की विफलता के लिए जिम्मेदार ठहराया. PK ने तो यहां तक कह दिया कि नीतीश कुमार के इर्द-गिर्द रहने वाले लोग खुद शराब पीते हैं.

प्रशांत किशोर ने बिहार सरकार से शराबबंदी हटाने की मांग करते हुए कहा कि जिसको वोट का डर है वही इस पर टिप्पणी नहीं कर रहा है. शराबबंदी बिहार के हक में नहीं है और ना ही समाज के हक में ही है. इससे बिहार की इकोनॉमी भी प्रभावित हो रही है. प्रशांत किशोर ने कहा कि शराबबंदी पर सबसे पहली मुखर आवाज हमने ही उठाया है. इसके साथ ही प्रशांत ने कहा कि बिहार में जितने भी दल हैं, उन्हें शराबबंदी को लेकर अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए.

IMG 20220723 WA0098

प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ-साथ बीजेपी और आरजेडी पर जोरदार हमला बोला है. प्रशांत किशोर ने कहा है कि नीतीश कुमार की जिद के कारण बिहार के लोगों की आज यह दुर्दशा हो रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी और आरजेडी जब सत्ता मिल जाती है तो वे चुप्पी साध लेते हैं और जैसे ही विपक्ष की भूमिका में आते हैं, शराबबंदी को लेकर हायतौबा मचाने लगते हैं.

IMG 20220728 WA0089

प्रशांत किशोर ने कहा कि बीजेपी के लोग आज जो विधानसभा में हंगामा कर रहे हैं, उन्हीं लोगों ने पांच साल तक सत्ता में नीतीश के साथ बैठकर शराबबंदी का समर्थन किया था. बीजेपी के लोगों को भी बताना चाहिए कि जब वे सत्ता में थे तो शराबबंदी को खत्म कराने के लिए क्या किया. बिहार के जो भी राजनीतिक दल है उन्हें पहले ये बताना चाहिए कि शराबबंदी पर उनका क्या स्टैंड है. इसके साथ ही तेजस्वी यादव को आड़े हाथ लेते हुए प्रशांत किशोर ने कहा जब तेजस्वी यादव विपक्ष में थे, तब शराबबंदी पर नीतीश सरकार को घेर रहे थे. अब ये खुद सरकार चला रहे हैं तो इन्हें शराबबंदी सही लग रहा है.

IMG 20221203 WA0079 01

प्रशांत किशोर ने शराबबंदी कानून को 48 घंटे में वापस लेने की बात भी कही. उन्होंने कहा कि अगले 48 घंटे में नीतीश कुमार को ये कानून वापस ले लेना चाहिए. पीके ने कहा कि पहले नीतीश कुमार ने पंचायत स्तर पर शराब की दुकानें स्थापित कराई. शराबबंदी लागू करने की बजाय सरकार को बीच का रास्ता निकालते हुए, एक रेगुलेटेड फ्रेमवर्क में शराब की उपलब्धता करानी चाहिए, न कि डंडे के बल पर शराबबंदी लागू करना चाहिए.

Samastipur News Page Design 1 scaledIMG 20221130 WA0095JPCS3 01IMG 20211012 WA00171 840x760 1IMG 20221203 WA0074 01Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.