मिशन- 60 के तहत मिलेगी नौकरी, राज्य के हरेक अस्पताल में बहाल होंगे भोजपुरी-मैथिली-बज्जिका भाषा के जानकर

अब सरकारी मेडिकल कालेज अस्पतालों के साथ ही सदर अस्पतालों में मरीज और उनके स्वजन अपनी स्थानीय भाषा में अस्पताल की सुविधाओं की जानकारी ले सकेंगे। सरकार का फैसला है कि अस्पतालों में मरीजों के किसी भी प्रश्न का उत्तर उन्हीं की भाषा में मुहैया कराया जाएगा। यह व्यवस्था बकायदा स्वास्थ्य की नई संचालन प्रक्रिया (एसओपी) में शामिल की गई है। इसके लिए अस्पतालों में मगही, भोजपुरी, मैथिली और बज्जिका जैसी भाषाओं के जानकार रखे जाएंगे। सरकारी अस्पतालों में मरीजों को निजी अस्पताल जैसे सुविधा देने के लिए बीते तीन महीने से स्वास्थ्य विभाग की कवायद चल रही है।

हेल्प डेस्क पर मरीजों की मदद करेंगे स्थानीय भाषा के जानकार

विभाग का सर्वाधिक फोकस अस्पतालों में डाक्टर, नर्सों की उपस्थिति के साथ दवाओं की उपलब्धता पर है। इस व्यवस्था में सुधार के लिए सितंबर महीने में मिशन 60 भी प्रारंभ किया गया था। मिशन 60 के तहत अस्पतालों में कई अहम बदलाव किए गए हैं। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए अस्पतालों में हेल्प डेस्क बनाने और उन पर स्थानीय भाषा के जानकार को बिठाने का फैसला हुआ है।

IMG 20221030 WA0023

अपने स्तर पर स्थानीय भाषा के जानकार नियुक्त करेंगे अस्पताल

एसओपी में इसकी व्यवस्था करने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत के स्तर पर अस्पताल प्रबंधन को निर्देश दिए गए हैं कि अस्तपाल अपने स्तर पर स्थानीय भाषा के जानकार नियुक्त करें। अस्पताल प्रबंधन को ऐसे कम से कम पांच-पांच जानकार रखने को कहा गया है। विभाग को यह कार्य प्राथमिकता में करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ कहा गया है जल्द से जल्द हेल्प डेस्क की व्यवस्था को प्रभावी बना दिया जाए।

IMG 20220728 WA0089

ओपीडी व अस्पताल से छुट्टी के बाद पांच दिनों की दवा होगी उपलब्ध

सरकार ने अस्पतालों में मरीजों को पांच दिनों की मुफ्त में दी जाने वाली दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का सख्त निर्देश दिया है। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने सभी जिलाधिकारियों और सिविल सर्जनों को इस संदर्भ में पत्र लिखकर ध्यान आकृष्ट किया है। विकास आयुक्त सह राज्य स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष की ओर से सरकारी अस्पतालों में दवा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी सभी जिलाधिकारियों को दी गई है। साथ ही विकास आयुक्त की ओर से सभी डीएम को हर सोमवार को दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए बैठक कर मानीटरिंग करने का भी निर्देश दिया गया है।

JPCS3 01

IMG 20211012 WA00171 840x760 1IMG 20221130 WA0095IMG 20221203 WA0079 01IMG 20221117 WA0072IMG 20221203 WA0074 01Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.