बिहार में शराब माफिया तक पहुंचने के लिए सरकार लेगी डिटेक्टिव एजेंसी का सहारा, प्राइवेट जासूस देंगे पूरी जानकारी

बिहार में शराबबंदी को सफल बनाने के लिए सरकार हर संभव कड़े कदम उठाने में अब तक लगी रही है. हेलिकॉप्टर से लेकर ड्रोन कैमरे औऱ स्टीमर से निगरानी के बाद अब राज्य सरकार शराब माफियाओं की नकेल कसने के लिए डिटेक्टिव एजेंसी की मदद लेने में जुट गई है. शराबबंदी को और अधिक सख्ती से लागू करने के मकसद से अब प्राइवेट जासूसों की सेवा ली जाएगी. मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग ने शराब माफिया की जड़ों को तलाशने के लिए प्राइवेट जासूसों की खोजबीन जोर शोर से शुरू कर दी है.

इस तरह की एजेंसियां देशी शराब बनाने वालों के साथ साथ विदेशी शराब की आपूर्ति करने वाले माफियाओ के बारे में न केवल बड़े पैमाने पर जानकारी इकट्ठी करेंगी बल्कि सम्बंधित एजेंसी को जानकारी देगी भी जिसके आधार पर विभाग कार्रवाई करेगा. इसके बदले जासूसी करने वाली एजेंसी को निश्चित राशि कमीशन के तौर पर अदा की जाएगी. विभागीय अधिकारियों की मानें तो प्राइवेट जासूस शराब बेचने के जुर्म में पकड़े गये अभियुक्तों से हुई पूछताछ में मिले सुरागों के आधार पर अपने स्तर से भी जांच करेंगे.

IMG 20220723 WA0098

इन जासूसों के माध्यम से शराब के धंधे में लगे आखिरी कड़ी तक पहुंचने का प्रयास किया जा सकेगा. यह जासूस राज्य के बाहर के शराब माफिया के बारे में भी अहम जानकारी जुटाएंगे. मिली जानकारी और इनपुट के आधार पर पुलिस और उत्पाद टीम कार्रवाई में सहयोग करेगी. मद्य निषेध विभाग का दावा है कि शराब के नापाक कारोबार के खिलाफ कार्रवाई में पिछले छह माह में बिहार में काफी तेजी आई है. शराब पीने और बेचने वालों की गिरफ्तारी 10 गुना तक बढ़ गई है लेकिन बड़े-बड़े शराब माफिया अब भी पकड़ से बाहर हैं.

IMG 20220728 WA0089

पिछले दिनों मध निषेध विभाग ने चाणक्य लॉ यूनिवर्सिटी और अनुग्रह नारायण इंस्टीट्यूट की मदद से जो सर्वे करवाया था उसमें भी यह बात प्रमुख तौर पर सामने आई थी कि लोग मानते हैं कि बड़े-बड़े शराब माफिया को मद्य निषेध विभाग या पुलिस विभाग का करना नहीं चाहती. क्या इन माफियाओं को लेकर लापरवाही है. अब विभाग बड़े शराब आपूर्तिकता और तस्करों को चिन्हित करने की तैयारी कर रहा है.

IMG 20220828 WA0028

सर्वे में 62 प्रतिशत लोगों ने माना था कि अगर पुलिस की सख्ती बढ़े तो शराबबंदी और बेहतर ढंग से लागू की जा सकती है. इसको ध्यान में रखते हुए ही मद्य निषेध विभाग अपने स्तर से जांच को लेकर निजी जासूसी एजेंसी की मदद लेने में जुट गया है.

IMG 20220829 WA00061JPCS3 01IMG 20220810 WA0048Picsart 22 07 13 18 14 31 808IMG 20211012 WA0017IMG 20220331 WA0074