बिहार: शराब माफिया को बचाने में फंसे इस जिले के सदर SDPO, कोर्ट ने पकड़ा, DIG ने की जांच

गोपालगंज के सदर एसडीपीओ शराब माफिया को बचाने के लिए अपने पद और शक्ति का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। यह कोर्ट का कहना है। यह आरोप लगाने के पहले कोर्ट ने सारे साक्ष्य को वरीय पदाधिकारियों को बंद लिफाफे में भेजा है। कोर्ट ने कहा कि इसकी जांच कर एक माह के अंदर कोर्ट में प्रस्तुत करें। जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जा सके। प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मानवेंद्र मिश्र ने इनकी इस करतूत को मद्य निषेध विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक, बिहार के मुख्य सचिव तथा डीजीपी को भी भेजा है। इधर, मामले की गंभीरता को देखते हुए सारण के डीआईजी पी कन्नन इसकी जांच के लिए शनिवार को गोपालगंज पहुंचे।

जानकारी के अनुसार, गोपालगंज के फुलवरिया में बाइक से शराब तस्करी करते पुलिस ने अशोक चौधरी को गिरफ्तार किया था। थाने में इस मामले में जो केस दर्ज किया गया उसमें अशोक चौधरी को तो आरोपी बना दिया गया मगर जिस बाइक से शराब मिली उसे थानेदार ने चोरी का बता दिया। दो महीने बाद फिर एसडीपीओ संजीव कुमार के आदेश पर सदर थाने के दारेगा हृदयानंद राम ने बाइक चोरी की एक एफआईआर दर्ज की।

IMG 20220723 WA0098

जिसमें बताया गया कि सब्जी खरीदने के दौरान बाइक की चोरी चार महीने पहले हो गई थी। चौंकाने वाली बात यह थी इस मामले में भी जेल में बंद तस्कर अशोक चौधरी को ही पुलिस ने अभियुक्त बनाया और रिमांड पर लिया। पुलिस ने जब अशोक चौधरी को कोर्ट में पेश किया तब पूरे मामले का खुलासा हुआ।

IMG 20220728 WA0089

दरअसल, दारोगा हृदयानंद राम ने जो एफआईआर लिखी उसमें उन्होंने कहा कि उन्हें एसडीपीओ संजीव कुमार ने अपने ज्ञापांक 717 दिनांक 25.03.2022 के माध्यम से तस्करी में इस्तेमाल बाइक, जिसे फुलवरिया थाना कांड – 40 / 2022 में जब्त किया जा चुका था, की चोरी का मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दिया। कोर्ट ने पुलिस से पूछा कि जब दो महीने पहले ही अशोक को गिरफ्तार किया जा चुका था और वह कस्टडी में था तब फिर दो महीने बाद उसकी गिरफ्तारी फिर से और उसी बाइक, जो पहले ही चोरी की बताकर पुलिस ने बरामद कर ली थी, एफआईआर क्यों की गई।

Banner 03 01

IMG 20221203 WA0079 01JPCS3 01IMG 20211012 WA00171 840x760 1IMG 20221203 WA0074 01IMG 20221117 WA0072Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.