बिहार में एक अप्रैल से शुरू होगा जाति आधारित गणना का दूसरा चरण, जानें किन लोगों से ली जायेगी जानकारी

IMG 20221030 WA0004

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

बिहार में जाति आधारित गणना को लेकर तस्वीर साफ हो गयी है. अगले साल एक अप्रैल से बिहार में आधारित गणना का दूसरा चरण शुरू होगा. इसको लेकर सभी तरह की तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं. बिहार में फिलहाल 204 जातियों की सूची है. इससे इतर कोई जाति का होने का प्रमाणपत्र प्रस्तुत करने पर उसकी भी गणना होगी. इसका सर्वे सीओ कार्यालय से होगा. हालंकि, जाति आधारित गणना में उपजाति का कोई प्रावधान नहीं है.

इन लोगों की बनेगी सूची

बिहार सरकार की तरफ से पहले चरण की तिथि की घोषणा के साथ ही अब दूसरे चरण के लिए भी तारीख निर्धारित कर दी गयी. दूसरा चरण एक अप्रैल से 30 अप्रैल तक होगा. इस चरण में अपने काम के सिलसिले में राज्य से बाहर रहने वाले यानी प्रवासी बिहारी की गणना होगी. उनकी सूची में उनके राज्य या देश का नाम दर्ज होगा.

IMG 20220728 WA0089

सात जनवरी से चलेगा पहला चरण 

पहले चरण में सात से 21 जनवरी के बीच मकान की नंबरिंग के साथ घर के मुखिया व सदस्यों का नाम दर्ज किया जायेगा. इसे पोर्टल पर अपलोड किया जायेगा, ताकि दूसरे चरण में होनेवाली गणना के दौरान तैयार सूची के साथ मिलान करने में परेशानी नहीं हो. पहले चरण में गणना कर्मी प्रत्येक घर में रहनेवाले लोगों के घर कच्चा या पक्का की स्थिति, जमीन की स्थिति, वार्षिक आमदनी, घर के सदस्यों की शैक्षणिक स्थिति, रोजगार है तो सरकारी या निजी आदि डिटेल लिया जायेगा.

IMG 20211012 WA0017

मास्टर ट्रेनरों को बिपार्ड में मिल रहा प्रशिक्षण

जाति आधारित गणना के लिए मास्टर ट्रेनरों को बिपार्ड में प्रशिक्षण दिया गया. पहले दिन पटना, समस्तीपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, पटना, पश्चिमी चंपारण व मुजफ्फरपुर जिले के मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण दिया गया. सामान्य प्रशासन विभाग के विशेष सचिव मो सोहैल ने प्रशिक्षण के दौरान जाति आधारित गणना के लिए तैयार करनेवाले ब्योरा से अवगत कराया. प्रशिक्षण कार्यक्रम में सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव बी राजेंदर भी मास्टर ट्रेनरों से रू ब रू हुए.

1 840x760 1

JPCS3 01

Banner 03 01

Samastipur News Page Design 1 scaled

1080 x 608

IMG 20221203 WA0074 01

IMG 20221203 WA0079 01

Post 183

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.