बिहार पुलिस में 1999 में फर्जी तरीके से बहाल हुआ था सिपाही, 23 साल बाद हुआ खुलासा, अब वेतन वसूलेगी सरकार

फर्जी तरीके से एससी का सर्टिफिकेट लगा कर सिपाही की नौकरी पाने वाले के खिलाफ बुद्धा कॉलोनी थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. मिली जानकारी के अनुसार 23 साल पहले भागलपुर के जगदीशपुर थाने के चकफतमा गांव निवासी सुबोध ने बिहार पुलिस में एससी कोटे से सिपाही नियुक्त हुआ था.

1999 में हुआ था बहाल

किसी ने सुबोध के खिलाफ पुलिस मुख्यालय में लिखित शिकायत की थी, जिसमें बताया गया था कि सुबोध ओबीसी है और फर्जी तरीके से एससी का सर्टिफिकेट 1999 में लगा नौकरी पा ली है. इसके बाद इसकी जांच करायी गयी, जिसमें शिकायत सही पायी गयी.

IMG 20221030 WA0023

पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू की

नियुक्ति के बाद आरोपी विशेष शाखा के पीटीसी में रहा. अब पटना जिला बल में तैनात है. उसके बाद पुलिस केंद्र के नियुक्ति शाखा के प्रभारी पीके सुमन के लिखित आवेदन पर बुद्धा काॅलाेनी थाना में मामला दर्ज किया गया. पुलिस ने जांच शुरू कर दी है.

IMG 20220728 WA0089

23 साल का पूरा वेतन वसूला जाएगा

बताया जा रहा है कि पुलिस अब उसे गिरफ्तार कर जेल भेजेगी. उसकी नौकरी भी जायेगी और 23 सालों में जितना वेतन लिया है, उसकी भी वसूली होगी. सूत्रों के अनुसार एसएसपी की जांच में पाया गया कि सुबाेध ने सरकारी अभिलेख से छेड़छाड़ की और तथ्यों काे छिपाकर नियुक्ति पायी.

इनपुट: प्रभात खबर

IMG 20221130 WA0095

IMG 20221117 WA0072IMG 20221203 WA0074 01IMG 20211012 WA00171 840x760 1JPCS3 01IMG 20221203 WA0079 01Post 183

Leave a Reply

Your email address will not be published.