बिहार: शहीद सुधांशु को दी गई अंतिम सलामी, लद्दाख के गलवान में ड्यूटी के दौरान दिया बलिदान

लद्दाख के गलवान में तैनात बिहार के सैनिक सुधांशु कुमार का पार्थिव शरीर शुक्रवार की देर रात रजौन के सकहरा गांव लाया गया. बांका के लाल शव पहुंचने के साथ ही लोगों की भीड़ एक झलक पाने लिये उमड़ पड़ी. सुबह से ही आसपास के लोगों की भीड़ के साथ ही स्थानीय पदाधिकारी भी सुधांशु को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान लोग सुधांशु के शव के साथ नायक सूबेदार मुकेश कुमार के नेतृत्व में जवानों की टुकड़ी भी आयी थी जिसने सलामी दी.

इस दौरान क्षेत्र के हज़ारो लोगो ने सुधांशु को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी रहे थे तो वहीं पूरा परिवार बदहवास पड़ा हुआ था. पिता राजेश चौधरी सहित अन्य सदस्यों का रोते-रोते बुरा हाल होते जा रहा था तो ग्रामीण परिजनों को दिलासा देते दिख रहे थे. क्षेत्रीय विधायक भूदेव चौधरी सहित स्थानीय पदाधिकारी भी सुधांशु को श्रद्धांजलि दी.

IMG 20220723 WA0098

इस बाबत सुधांशु के शव के साथ आये नायक सूबेदार मुकेश कुमार ने बताया कि सुधांशु कुमार की ड्यूटी के दौरान ही शहादत हुई है जो देश के लिये उनका सर्वोच्च बलिदान है. वहीं क्षेत्रीय विधायक भूदेव चौधरी ने सुधांशु को बहादुर बच्चा बताते हुए उनके सर्वोच्च बलिदान को याद रखने वाला बताया.

IMG 20220728 WA0089

पिता राजेश चौधरी ने बताया कि मेरा बेटा सीमा की रक्षा के दौरान जख्मी हो गया था जिसके बाद इलाज के दौरान वे शहीद हो गए. श्रद्धांजलि देने के बाद सुधांशु का शव अंतिम संस्कार के लिये सेना के वाहन से भागलपुर ले जाया गया. इस दौरान क्षेत्र के हजारों लोगों की भीड़ देशभक्ति के गीतों के बीच नम आंखों से विदाई दी.

IMG 20220828 WA0028

गौरतलब है कि रजौन के सकहरा के राजेश चौधरी के इकलौते पुत्र सुधांशु कुमार की नियुक्ति 2020 में ही आर्मी में वायरलेस ऑपरेटर के तौर पर हुई थी जो वर्तमान में लद्दाख के गलवान में तैनात थे. बीते 21 अगस्त को कर्तव्य के दौरान जख्मी हो गए थे और उनका इलाज पीजीआई चंडीगढ़ में चल रहा था. मगर इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

IMG 20220829 WA0006JPCS3 011IMG 20211012 WA0017Picsart 22 07 13 18 14 31 808IMG 20220810 WA0048IMG 20220331 WA0074