बिहार: घूसखोर हेड क्लर्क को विजिलेंस की टीम ने 18 हजार रुपये के साथ दबोचा

बिहार में भ्रष्टाचार के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है. भ्रष्टाचारियों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत एक्शन लिया जा रहा है. ऐसा ही एक और मामला सामने आया है पटना के दनियावां से. दनियावां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में निगरानी की टीम ने छापा मारा. इस दौरान स्वास्थ्यकर्मी प्रधान लिपिक अजय प्रसाद को 18 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया.

प्रधान लिपिक घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार: 

निगरानी विभाग को अजय प्रसाद के खिलाफ शिकायत मिली थी. जिसके बाद टीम ने शिकायत की जांच शुरू की. जांच के दौरान टीम ने प्रधान लिपिक अजय प्रसाद के ऊपर लगे आरोपों को सही पाया. भ्रष्टाचारी के खिलाफ कार्रवाई के लिए निगरानी विभाग ने एक टीम का गठन किया.

IMG 20220723 WA0098

18 हजार रुपये ले रहे थे रिश्वत:

टीम ने रेड मारकर अजय प्रसाद को 18 हजार रुपये रिश्वत लेते दबोचा है. निगरानी टीम गिरफ्तार स्वास्थ्यकर्मी अजय प्रसाद से पूछताछ कर रही है. उनसे कई बिंदुओं पर पूछताछ की जा रही है. टीम जानने की कोशिश कर रही है कि उनके भ्रष्टाचार के खेल में और कौन-कौन से और लोग शामिल हैं.

IMG 20220728 WA0089

लाया गया पटना हेट क्वाटर:

बिहार में लगातार भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ निगरानी विभाग विशेष निगरानी विभाग और आर्थिक अपराध इकाई अपना शिकंजा कस रही है. इसी कड़ी में गुरुवार को ₹18000 घूस लेते स्वास्थ्य कर्मी प्रधान लिपिक अजय प्रसाद को गिरफ्तार किया गया है. मिल रही जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य कर्मी अजय प्रसाद को निगरानी की टीम गिरफ्तारी के बाद पटना हेड क्वार्टर लेकर पहुंची है. गिरफ्तार स्वास्थ्य कर्मी को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा.

IMG 20220828 WA0028

IMG 20220829 WA0006Picsart 22 07 13 18 14 31 808JPCS3 011IMG 20211012 WA0017IMG 20220810 WA0048IMG 20220331 WA0074