नीतीश कुमार के मित्र हैं इसलिए बीजेपी में सुशील मोदी साइडलाइन हो गए, उनके पुनर्वास से जेडीयू को खुशी होगी: ललन सिंह

advertisement krishna hospital 2

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

बिहार में एनडीए का साथ छोड़कर नीतीश कुमार के महागठबंधन सरकार का मुख्यमंत्री बनने के बाद बीजेपी के कई नेता लगातार जेडीयू और नीतीश पर विश्वासघात से लेकर जनादेश के अपमान का आरोप लगा रहे हैं। लेकिन नीतीश के बहुत करीबी माने जाने वाले बीजेपी सांसद और राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी जब नीतीश पर बरसे तो जेडीयू अध्यक्ष ललन सिंह ने जवाब में कहा कि सुशील मोदी हमारे नेता नीतीश कुमार के मित्र हैं इसलिए बीजेपी में उनको साइडलाइन कर दिया गया। अगर हमारे ऊपर कुछ कहने-बोलने से बीजेपी सुशील मोदी का पुनर्वास कर देती है तो हम सबको बहुत खुशी होगी।

सुशील मोदी ने कहा है कि जेडीयू के कई नेताओं ने बीजेपी के मंत्रियों से कहा था कि नीतीश उपराष्ट्रपति बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आरसीपी सिंह को भी नीतीश कुमार की सहमति से केंद्रीय मंत्री बनाया गया और ये कहना कि बीजेपी ने अपनी पसंद से आरसीपी को नरेंद्र मोदी कैबिनेट में शामिल किया, सफेद झूठ है। सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश ने बीजेपी को धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि अगर नीतीश के नाम पर वोट मिलता तो 2020 में जेडीयू मात्र 43 सीट नहीं जीतती।

IMG 20220810 WA0048

ललन सिंह ने सुशील मोदी के आरोपों पर पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि सुशील मोदी नीतीश कुमार के मित्र हैं इसलिए भाजपा ने उनको साइडलाइन कर रखा है। अब कुछ बोलकर उनका पुनर्वास हो जाता है तो हम लोगों को कोई दिक्कत नहीं है बल्कि हमें खुशी होगी। जब पत्रकारों ने रविशंकर प्रसाद के आरोप पर पूछा तो ललन सिंह ने कहा कि रविशंकर भी बेरोजगार हैं, केंद्रीय मंत्री रहे नहीं, राज्यसभा का दो साल बचा है, फिर चांस मिल जाए ये सब करके तो क्या बुरा है। ललन सिंह ने कहा कि हमें सुशील मोदी और रविशंकर प्रसाद से सहानुभूति है।

IMG 20220728 WA0089

IMG 20220802 WA0120

Sticker Final 01

JPCS3 01

IMG 20211012 WA0017

IMG 20220713 WA0033

Picsart 22 07 13 18 14 31 808

IMG 20220331 WA0074

Advertise your business with samastipur town