मजदूर का बेटा बना सेकंड टॉपर, बोला- मुझे पढ़ाने के लिए पिता कंधे पर बोरी ढो रहे हैं, अब मैं IAS बनूंगा…

सफलता साधनों की मोहताज नहीं होती। इसे सच साबित कर दिखाया है एक मजदूर के बेटे विवेक कुमार ठाकुर ने। दिल्ली में मजदूरी करने वाले लदनियां प्रखंड के गोनटोल निवासी श्याम सुंदर ठाकुर व गृहिणी छोटी देवी के दूसरे बेटे विवेक ने अपनी सफलता से सबको हैरान कर दिया।

मैट्रिक की परीक्षा में 486 अंक लाकर विवेक ने पूरे राज्य में दूसरा स्थान लाया है । बेहद कमजोर आर्थिक पृष्ठभूमि वाले इस छात्र ने अपनी कड़ी मेहनत से यह मुकाम हासिल किया। विवेक ठाकुर का कहना है कि वह आगे चलकर आईएएस बनना चाहता है। विवेक ने बताया कि उसके पिता दिल्ली में बोरा ढ़ोकर परिवार की गाड़ी खींच रहे हैं। घर चलाने में पिता की मदद के लिए बड़ा भाई भी काम करने दिल्ली चले गए।

IMG 20210828 WA0063

34 दिन में जारी हुआ रिजल्ट

इस बार परीक्षा के 34 दिन के भीतर मैट्रिक का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। परीक्षा 17 फरवरी से 24 फरवरी के बीच हुई थी। 25 फरवरी से ही कॉपियों का मूल्यांकन शुरू हो गया था। ऑब्जेक्टिव प्रश्नों के आंसर 8 मार्च को जारी किए गए थे। छात्रों को 11 मार्च तक आपत्तियों के लिए मौका दिया गया था। मैथ्स का पेपर मोतिहारी में लीक हो जाने के कारण यहां के 25 परीक्षा केंद्रों पर 24 मार्च को गणित की दोबारा से परीक्षा हुई। इसके कारण रिजल्ट में भी देरी हुई। छात्र biharboardonline.com व biharboardonline.bihar.gov.in पर जाकर इसे चेक कर सकते हैं।

IMG 20220211 221512 618

IMG 20220215 WA0068

गौरतलब है कि इस वर्ष बिहार बोर्ड की परीक्षा में 16.11 लाख परीक्षार्थी शामिल हुए थे। जिनमें 79.88 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए हैं। बिहार बोर्ड ने इस वर्ष मैट्रिक की परीक्षा 17 से 24 फरवरी के बीच संपन्न करा ली थी और 25 फरवरी से कॉपी का मूल्यांकन शुरू कर दिया था। इतनी जल्दी रिजल्ट देकर बिहार बोर्ड ने एक बार फिर मिसाल कायम किया है।

IMG 20210821 WA0008IMG 20220331 WA0074IMG 20211012 WA0017IMG 20211024 WA0080IMG 20211031 WA0072 01