बाजार से गायब हो चले गुलाबी नोट, ATM में भी नहीं मिल रहे 2 हजार के नोट

IMG 20210427 WA0064 01

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

समस्तीपुर :- लोगों के गुलाबी सपनों को सच करने वाला दो हजार के गुलाबी नोट ( Two Thousand Note) जितनी तेजी से आया उतनी ही तेजी से गायब हो चला है। शायद आपने भी इसे नोटिस किया होगा। समस्तीपुर में एटीएम (ATM) ने भी दो हजार रुपये के नोटों को उगलना बंद कर दिया है। नोट अपलोड करने वाली एजेंसियों की तरफ से ATM मशीनों में दो हजार के नोट नहीं रखे जा रहे हैं।

इस मुद्दे पर बैंक अधिकारी भी कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। माना जा रहा है कि कालाधनों की जमाखोरी को रोकने के लिए रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने दो हजार के नोटों को धीरे-धीरे प्रचलन से बाहर करने का मन बना लिया है। वैसे प्रचलन से दो हजार के नोटों के गायब होने से आम लोग खुश हैं। दो हजार के नोटों को बाजार में छोटे नोटों में बदलने में परेशानी होती थी।

IMG 20221021 WA0082

नवंबर 2016 से प्रचलन में गुलाबी नोट :

बता दें कि कालाधन पर चोट के लिए वर्ष 2016 में पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा कालाधन को वापस लाने के लिए नोटबंदी की गई थी। उस दौर में जारी किए गए दो हजार रूपये के गुलाबी नोट बाजार से अब गायब हो गए हैं। चाहे बैंक का काउंटर हो या एटीएम, दो हजार के गुलाबी नोट अब विरले ही नजर आते हैं। बैंकों के एटीएम से अब दो हजार के नोट निकलते ही नहीं हैं। यह स्थिति पिछले कई माह से हो रही है।

बाजार में भी अब लेनदेन में दो हजार के नोट बहुत कम प्रयोग में दिख रहे हैं। जिस कारण अधिक्तर लोगों को बाजार में खरीदारी करने के लिए आसानी भी हो रही है। देखा जाता था कि सब्जी वाले या छोटे दुकानदारों से खरीदारी करने के बाद दो हजार का नोट देते थे, उस वक्त दो हजार रूपये के खुदरा के लिए काफी परेशानी होती थी।

Banner 03 01

दो से तीन वर्ष पूर्व दो हजार के नोट का फ्लो 15 से 30 फीसद था, अब 2-5 फीसदी :

दो से तीन वर्ष पूर्व तक दो हजार के नोट का फ्लो लेने-देन में 15 से 30 फीसद था। वह अब घटकर दो से पांच फीसद पर आ गया है। पांच सौ के नोट नकद लेने-देन इन दोनों ज्यादा उपयोग हो रहे हैं। किसी भी एटीएम से अब दो हजार के नोट नहीं निकलते हैं। बैंकों भी दो हजार के नोट अपने ग्राहकों को नहीं देते हैं।

IMG 20220915 WA0001

रिजर्व बैंक ने बंद कर दी दो हजार के नोटों की छपाई :

साल 2016 नवम्बर माह में भारत सरकार ने कालाधन और जमाखोरी को देखते हुए नोटबंदी का ऐलान किया था। उस समय अधिकांश लोगों को खासी दिक्कतें उठानी पड़ी थी। जिसके बाद दो हजार, पांच सौ और दो सौ के नये नोट चलन में लाए गए थे। बाजारों से गायब हो रहे दो हजार नोट के बारे में हाल ही में यूपी के उन्नाव के पूर्व नौसैनिक संदीप पांडेय ने सूचना के अधिकारी के तहत रिजर्व बैंक से जानकारी मांगी थी। इसके जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण लिमिटेड के केन्द्रीय लोक सूचना अधिकारी एस रवि कुमार ने बताया कि पिछले दो सालों से भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 2,000 के एक भी नोट नहीं छापे गये हैं। उन्होंने बताया कि पिछले दो सालों से दो हजार के नोट की छपाई न होने से बजारों से नोट गायब हो रहे हैं। हालांकि इसका कारण नहीं बताया गया।

1 840x760 1

IMG 20211012 WA0017

IMG 20221021 WA0064 01

JPCS3 01

IMG 20221017 WA0000 01

IMG 20220331 WA0074

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.