CM फेस की रेस में गिरिराज सिंह ने नित्यानंद राय के सामने सम्राट चौधरी को क्यों खड़ा कर दिया?

IMG 20221030 WA0023

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े 

राजनीतिक रूप से जागरूक देश के लोगों की नजर कर्नाटक के चुनाव पर है कि बीजेपी सरकार बचा पाएगी या कांग्रेस दक्षिण भारत में भाजपा से इकलौती सरकार छीन लेगी। देश की नजर योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश पर है कि नगर निकाय के चुनाव में पिछली बार की ही तरह बीजेपी का बोलबाला रहेगा या अखिलेश यादव की सपा कुछ जोर दिखा पाएगी या मुसलमानों को आगे करके मायावती की बसपा सपा का कितना बिगाड़ पाएगी।

देश की नजर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उस मुहिम पर है जो बीजेपी विरोधी दलों को एक साथ लाने की कोशिश कर रही है। 2024 से आगे की फिलहाल कोई सोच नहीं रहा है। लेकिन बिहार में बीजेपी के नेताओं की नजर इस पर है कि 2025 में राज्य में भाजपा की सरकार बनी तो राज्य का मुख्यमंत्री कौन बनेगा। बिहार बीजेपी के नए अध्यक्ष सम्राट चौधरी का 2 मई को केंद्रीय मंत्री और फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह के लोकसभा क्षेत्र बेगूसराय में स्वागत कार्यक्रम था। नारे लग गए- सम्राट चौधरी, बिहार का मुख्यमंत्री।

new file page 0001 1

नारा किसी कार्यकर्ता ने नहीं लगाया। नारा मंच पर बैठे किसी तीसरी और चौथी पंक्ति के नेता ने भी नहीं लगवाया। नारा खुद गिरिराज सिंह ने लगवाया। बोले- “सम्राट चौधरी जिस दिन से अध्यक्ष बने हैं। नारे लग रहे हैं। सम्राट चौधरी, बिहार का…” इसके बाद उन्होंने सभा में मौजूद लोगों की तरफ इशारा किया और नीचे से पहले धीमे और बाद में तेज जवाबी नारा आया- मुख्यमंत्री। फिर उन्होंने यह भी कहा कि मैंने नहीं कहा। सम्राट चौधरी के बोलने की बारी आई तो उन्होंने इस नारेबाजी पर सिर्फ इतना कहा कि भाजपा अपने मंडल अध्यक्ष को भी मुख्यमंत्री बना दे तो वो भी नीतीश कुमार से अच्छा काम करेगा।

IMG 20230324 WA0187 01

बिहार में भाजपा सरकार में शामिल रही है लेकिन अपना मुख्यमंत्री बनाना अब तक उसकी टू डू लिस्ट में है। भाजपा की बिहार में सरकार बनेगी या नहीं बनेगी ये तो चुनाव तय करेंगे लेकिन केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय 2015 के विधानसभा चुनाव से ही पार्टी के सीएम कैंडिडेट समझे जाते रहे हैं। सुशील कुमार मोदी का नाम लेने वाले संगठन में एक तो कमजोर और दूसरे कम हो गए हैं लेकिन वो लंबे समय से सीएम-इन-वेटिंग हैं। आरजेडी से करियर शुरू करने वाले सम्राट चौधरी को बीजेपी में प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया तो यही कहा गया कि नीतीश और उनके लव-कुश वोट बैंक पर आक्रामक हमला करने के लिए भाजपा ने एक कुशवाहा को कमान सौंपी है।

Samastipur Town Page Design 01

भूमिहार जाति के बड़े नेता गिरिराज सिंह का सम्राट चौधरी के लिए मुख्यमंत्री का नारा लगवाने से बाकी कुछ हुआ ना हुआ, ये जरूर हो गया है कि सम्राट चौधरी को अपने अध्यक्ष कार्यकाल के शुरुआती दिनों में ही पार्टी के राज्य में सबसे मजबूत नेता नित्यानंद राय के सामने चाहे-अनचाहे खड़ा कर दिया गया है। बिहार भाजपा में गुटबाजी हमेशा रही है। कैलाशपति मिश्र के जमाने में सीपी ठाकुर, सुशील मोदी, नंद किशोर यादव, अश्विनी चौबे का गुट हुआ करता था। समय बदला तो नित्यानंद राय का गुट बन गया। सम्राट चौधरी का इस समय कोई गुट नहीं है। लेकिन सीएम पद पर सम्राट चौधरी की दावेदारी की जो नींव बेगूसराय में रखी गई है, उसकी चोट नित्यानंद राय को भी लगेगी।

IMG 20230428 WA0067 01 01

सवाल है कि कभी खुद को सीएम की रेस में मानने वाले गिरिराज सिंह ने सम्राट चौधरी का नाम मुख्यमंत्री कैंडिडेट के तौर पर क्यों उछाला। इसका कोई सीधा जवाब नहीं है। यहां-वहां की चीजें और बातें जोड़कर ही समझा जा सकता है कि भूमिहारों के गढ़ में एक भूमिहार नेता किसी पिछड़े को सीएम बनवाने का नारा क्यों लगवा सकता है। 2025 के चुनाव में देर है। उससे पहले 2024 का चुनाव है। बिहार में बीजेपी के कम से कम 8 सांसद ऐसे हैं जो अगले साल 70 की उम्र पार कर जाएंगे। नरेंद्र मोदी और अमित शाह के दौर में बने नियमों से एक उम्र के बाद टिकट मिलने की संभावना खत्म नहीं तो कम जरूर हो जाती है।

गिरिराज सिंह इस समय 70 हैं और अगले साल 71 के हो जाएंगे। भाजपा संगठन वाली पार्टी है जिसमें प्रदेश अध्यक्ष का पद बहुत ताकतवर और प्रभावशाली होता है। फिर से लोकसभा चुनाव का टिकट मिले इसके लिए 70 पार वाले नेता संगठन की मजबूत सिफारिश की जरूरत महसूस करेंगे। 70 प्लस वाले नेताओं के सामने सम्राट चौधरी की सबसे बड़ी उपयोगिता एक तो ये है। गिरिराज सिंह केंद्रीय नेतृत्व के भी दुलारे हैं इसलिए उनको दिल्ली से भी टिकट मिल सकता है लेकिन संगठन की रिपोर्ट, लिस्ट में सब ठीक रहे ये काम भी दुरुस्त रखना चुनावी दावेदारी के मौसम में एक चुनौती होती है। गिरिराज सिंह वैसे भी बेगूसराय के ही राकेश सिन्हा की दावेदारी से परेशान हैं।

IMG 20230109 WA0007

गिरिराज सिंह और नित्यानंद राय का आपसी समीकरण भी गिरिराज को सम्राट चौधरी की तरफ ले गया है। नित्यानंद सिंह केंद्र की राजनीति में काफी मजबूत हैं और केंद्र में रहकर गिरिराज सिंह बखूबी ये जानते हैं। सम्राट चौधरी उस हिसाब से नए हैं और कमजोर भी हैं। नित्यानंद राय को केंद्रीय नेतृत्व के सामने गिरिराज सिंह की मदद की जरूरत नहीं है। सम्राट चौधरी के प्रदेश अध्यक्ष बनने से आरएसएस बैकग्राउंड वाले बीजेपी नेता बहुत खुश नहीं हैं। गिरिराज सिंह भी आरएसएस बैकग्राउंड वाले नेता हैं। तो यह कहा जा सकता है कि सम्राट चौधरी के यहां गिरिराज की पूछ है इसलिए गिरिराज भी उनको पूछ रहे हैं।

20x10 Hoarding 11.02.2023 01 scaled

IMG 20230416 WA0006 01

Post 193 scaled

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *