भट्टी को लेकर अपने हेलीकाप्टर से पूर्णिया गए थे लालू, फिर कहा- अपराधियों का बैठा देंगे भट्ठा

IMG 20221030 WA0004

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े

14 जून 1998 का दिन पूर्णिया के इतिहास का वह काला पन्ना है, जो सूबे की तत्कालीन सरकार को भी लाल घेरे में ला दिया था। 14 जून की दोपहर को ही पूर्णिया शहर से गुजरने वाली गंगा-दार्जिलिंग पथ पर पूर्णिया सदर के चार बार विधायक रहे अजीत सरकार को गोलियों से भून दिया गया था। उस समय अजीत सरकार की लोकप्रियता चरम पर थी। उनकी हत्या की खबर फैलते ही शहर जलने लगा था। सड़कों पर जन सैलाब उमड़ गया था और पुलिस सुरक्षात्मक मुद्रा में आ गई थी। सड़कों पर टायर दर टायर जल रहे थे। बाजार में पान तक की दुकान नहीं खुल रही थी। यह क्रम अगले दिन भी थमने का नाम नहीं ले रहा था। पुलिस पूरी तरह असहाय नजर आ रही थी।

इस आंदोलन की धमक पटना तक पहुंच चुकी थी और सरकार को तीखी आलोचना का सामना करना पड़ रहा था। पूर्णिया में आक्रोशित लोग उनका शव उठने नहीं दे रहे थे और पुलिस कुछ नहीं कर पा रही थी। इधर पूर्णिया में लगातार बिगड़ते हालात की सूचना मिलने पर तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav) के पूर्णिया आगमन का कार्यक्रम तय हुआ। स्थिति को भांपते हुए लालू प्रसाद यादव खुद अपने हेलीकाप्टर से ही आईपीएस राजविंदर सिंह भट्टी (RS Bhatti) को लेकर यहां पहुंचे थे।

IMG 20211012 WA0017

स्व. अजीत सरकार के पार्थिक शरीर पर माल्यार्पण के बाद खुद लालू ने लोगों से शांति की अपील करते हुए यह जानकारी भी मंच से दी थी कि अब पूर्णिया के एसपी आरएस भट्ठी होंगे और ये ऐसे एसपी हैं जो बड़े से बड़े अपराधियों का भट्ठा बैठा देंगे। फिलहाल आरएस भट्ठी को बिहार का डीजीपी (Bihar New DGP) बनाये जाने से यहां के लोगों में भी एक नई उम्मीद जगी है।

1 840x760 1

एसपी की जांच पर ही आगे बढ़ी थी सीबीआइ

पूर्णिया की कमान संभालते ही एसपी आरएस भट्ठी ने तत्काल अजीत सरकार हत्याकांड की जांच शुरु कर दी। यद्यपि उनकी जांच अभी पूरी भी नहीं हुई थी कि सरकार के स्तर से इसकी जांच का जिम्मा सीबीआइ को सौंप दी गई। उस समय भी यह बात सूर्खियों में रहा था कि आरएस भट्ठी ने जिन लोगों को केंद्र में रखकर अपनी जांच को रफ्तार दी थी बाद में सीबीआइ की जांच भी उसी दिशा में बढ़ती गई। इधर भट्ठी के आगमन से ही अपराधियों में काेहराम मच गया था। अपराधी इलाका छोड़ने लगे थे।

Banner 03 01

धमदाहा में कई अपराधियों के मारे जाने पर चर्चा के केंद्र में रहे भट्ठी

जिस समय आरएस भट्ठी की पदस्थापना यहां हुई थी, उस दौरान धमदाहा अनुमंडल में अपराधियों की समांतर सरकार चलती थी। इसमें कुछ गिरोह का सफाया भी हुआ था। यद्यपि गैंगवार में इन अपराधियों के मारे जाने की बात सामने आई थी, लेकिन चर्चा के केंद्र में भट्ठी रहे थे। लोग इन अपराधियों के सफाये को गैंगवार का नतीजा मानने को तैयार नहीं थे।

RS Bhatti currently holds the post of additional d 1671364626203

निखरैल नरसंहार में भी दिखी थी भट्ठी की हनक

आरएस भट्ठी ने पूर्णिया में छह माह का कार्यकाल भी पूरा नहीं किया था कि डगरुआ थाना क्षेत्र के निखरैल में भू-विवाद को लेकर एक साथ सात लोगों की हत्या कर दी गई। यह घटना भी सूबे में सूर्खियों में रहा। मारे गये सभी लोग आदिवासी परिवार के थे। इस पर सियासत भी गर्म हो गई थी। इन तमाम स्थितियों को नजर अंदाज करते हुए आरएस भट्ठी पूरे मामले में निष्पक्ष कार्रवाई पर अडिग रहे और नरसंहार की चिंगारी भड़कने से पहले ही शांत हो गई।

IMG 20220728 WA0089

JPCS3 01

Samastipur News Page Design 1 scaled

IMG 20221203 WA0074 01

1080 x 608

IMG 20221203 WA0079 01

Post 183

20201015 075150

Leave a Reply

Your email address will not be published.