लालूजी आप तो शराबबंदी पर मत बोलिए, याद है ना वो दिन, जदयू प्रवक्‍ता ने क्‍यों कहा ऐसा

व्हाट्सएप पर हमसे जुड़े

पश्चिमी चंपारण के बेतिया में कथित तौर पर जहरीली शराब से मौत पर सत्‍ता पक्ष और विपक्ष आमने-सामने है। विपक्षी दल राजद ने इसको लेकर सरकार पर हमला किया है। वहीं जदयू और भाजपा की ओर से भी उसी अंदाज में पलटवार किया गया है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद (RJD Supremo Lalu Prasad) के टि्वटर पर किए गए Tweet पर जदयू के मुख्‍य प्रवक्‍ता नीरज कुमार (JDU Spokesperson Neeraj Kumar) ने लालू प्रसाद को पुराने दिन की याद दिलाई है। कहा है कि आप तो शराबबंदी कानून (Liquor Ban in Bihar) का उपहास मत उड़ाइए। क्‍योंकि जब यह लागू हुआ था तब आपने इसे क्रांतिकारी कदम बताया था।

शराबबंदी को बताया था क्रांतिकारी कदम 

विधान पार्षद नीरज कुमार ने कहा है कि शराबबंदी  कानून एक तरह से सामा‍जिक जकड़न पर प्रहार है। यह कानून लागू होने के बाद बिहार में देसी-विदेशी पर्यटकों के मामले में बिहार देश में नौवें स्‍थान पर था। हत्‍या के मामले में काफी कमी आई है। अन्‍य अपराध भी घटे हैं। ऐसे में चंद घटनाएं हुई हैं। यह दुखद है। लेकिन शराबबंदी जैसे कानून पर सवाल नहींं उठाया जा सकता।

Advertisement Krishna Hospital

मानव शृंखला में शामिल हुए थे लालू प्रसाद 

मुख्‍य प्रवक्‍ता ने कहा जिसमें लालू जी खुद भागीदार थे, उसपर सवाल खड़े करते हैं। लालू प्रसाद के उस बयान पर कि लाखों लोग जेल में हैं, नीरज ने कहा कि बताएं क‍ि जेल की क्षमता कितनी है। उन्‍होंने कहा कि लालूजी आप स्‍मरण रखें कि शराबबंदी कानून के साथ थे। आप भी मानव शृंखला में खड़े हुए। आपने कहा था कि यह सरकार का क्रांतिकारी कदम है। इसलिए इसका उपहास मत उड़ाइए। चुनौतियां क्‍या हैं, उसपर सलाह दीजिए।बालू के मामले में तो पता चला न कि गवर्नेंस किसे कहते हैं। इसी तरह शराब मामले में भी कई पुलिस वालों पर कार्रवाई हुई है।

लालू के ट्वीट से गरमाई सियासत 

बता दें कि लालू प्रसाद ने Tweet किया था कि बिहार में सुशासनी शराबबंदी से प्रतिवर्ष हजारों लोग जहरीली शराब से मर जाते हैं। शराबबंदी के कारण सत्‍ताधारी लोग बिहार में 20 हजार करोड़ की समानांतर अवैध इकोनॉमी चला रहे हैं। शराबबंदी के नाम पर लाखों दलित और गरीब जेल में बंद हैं। पुलिस भ्रष्‍ट और अत्‍याचारी बन चुकी है।

Advertisement Pathsala educators Advertisement siksha kunj 2 Advertise your business with samastipur town

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal