बिहार में डोर टू डोर होने लगी कोरोना की स्कैनिंग, पहले चरण में सिवान, बेगूसराय, नवादा और नालंदा का नंबर

समस्तीपुर Town बिहार में डोर टू डोर होने लगी कोरोना की स्कैनिंग, पहले चरण में सिवान, बेगूसराय, नवादा और नालंदा का नंबर April 16, 2020

राज्य सरकार ने कोरोना पर जीत हासिल करने के लिए इस महामारी की चपेट में आए इलाकों में डोर टू डोर स्कैनिंग का काम शुरू हो गया है।

समस्तीपुर Town बिहार में डोर टू डोर होने लगी कोरोना की स्कैनिंग, पहले चरण में सिवान, बेगूसराय, नवादा और नालंदा का नंबर April 16, 2020

पहले चरण में राज्य के चार कोरोना प्रभावित जिले सिवान, बेगूसराय, नवादा और नालंदा में स्कैनिंग आरंभ की गई है। दूसरे चरण में पटना समेत शेष 7 जिलों में यह काम होगा। स्वास्थ्य विभाग ने अभियान की महत्ता को देखते हुए पारामेडिक्स स्टाफ, नगर पालिका और पुलिस की टीम गठित कर दी है।

दो चरणों के अभियान में करीब चार लाख से अधिक घरों की स्कैनिंग की जाएगी। इस काम में कुल 2घर-घर700 लोगों को कई टीमों में लगाया गया है। बता दें कि बिहार में गुरुवार तक कुल कोरोना मरीजों की संख्‍या 74 हो गई है। गुरुवार को बक्‍सर में भी कोरोना की एंट्री हो गई, जबकि बुधवार को वैशाली में कोरोना ने दस्‍तक दे दी थी।

कोरोना मरीजों की पहचान के लिए शुरू किए गए इस अभियान के तहत पारामेडिक्स स्टाफ, नगर पालिका और पुलिस की टीम गुरुवार से घर-घर जाने लगी है। घर के मुखिया को एक प्रिंटेड फॉर्म दिया जा रहा है। इसमें परिवार के मुखिया को लिखित जानकारी देनी है कि उनके घर में कितने सदस्य हैं। कोई सदस्य पिछले एक महीने में विदेश से या कहीं अन्य जगह से तो नहीं आया है। घर के किसी सदस्य को सर्दी, खांसी, बुखार या सांस लेने में समस्या तो नहीं। परिवार के सदस्यों की आयु कितनी है। गांव, मोहल्ला, थाना जैसी जानकारी भी शामिल की गई हैं।

इसके साथ फॉर्म में एक कॉलम में कहा गया है कि यदि परिवार के किसी सदस्य को ऊपर दी गई कोई बीमारी होती है तो परिवार के सदस्य यह जानकारी आने जिले के सिविल सर्जन नियंत्रण कक्ष और जिला नियंत्रण कक्ष को तत्काल देंगे।फॉर्म में जिला का फोन नंबर दिया हुआ है।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार के अनुसार, कोरोना के फैलाव को रोकने और इसे पूरी तरह समाप्त करने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है। राज्य के लोगों का दायित्व है कि वे सरकार को मदद करें, ताकि कोरोना महामारी को जड़ से समाप्त किया जा सके।

ये भी पढ़े: लॉकडाउन के बीच नीतीश सरकार ने दूसरे राज्यों में फंसे बिहार के पौने 7 लाख श्रमिकों के खाते में भेजे एक-एक हजार

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.