मिथिलांचल में भक्ति भाव, अध्यात्म, साहित्य और संस्कृति की झलक अभूतपूर्व, गायिका तृप्ति शाक्या हुई सम्मानित

समस्तीपुर/विद्यापतिनगर:- भक्त व भगवान की ऐतिहासिक नगरी विद्यापतिधाम आकर मैं वास्तव में धन्य हो गयी। सुना है यहां स्वयं भोलेनाथ व माता गंगा अपने भक्त की पुकार पर आए थे। ऐसी धरती देश व दुनिया में विद्यापतिधाम के सिवाय दूसरा कोई नहीं हो सकता।यहां के लोगों में भक्ति, भजन, भगवान के दर्शन वर्णन व सौंदर्य रस का बखूबी बोध है. ये उद्बोधन थे प्रख्यात भजन व पार्श्व गायिका तृप्ति शाक्या का। मौका था विद्यापति राजकीय महोत्सव के दौरान भजन संध्या कार्यक्रम का।महोत्सव के भजन संध्या की प्रस्तुति के उपरांत गायिका…

Read More

…कभी राम बनके कभी श्याम बनके, तृप्ति शाक्या की प्रस्तुति पर भाव विभोर हुए श्रोता

विद्यापति महोत्सव में भजन संध्या में झूम उठे श्रद्धालु समस्तीपुर/विद्यापतिधाम:- विद्यापतिधाम में बुधवार की शाम जब प्रख्यात भजन व पार्श्व गायिका तृप्ति शाक्या की मखमली आवाज का जादू चला तो पूरा इलाका तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। मौका था तीन दिवसीय छठा विघापति राजकीय महोत्सव के आगाज का। महोत्सव में भजन संध्या के दौरान गायिका। तृप्ति शाक्या ने अपनी सुर लहरियों में उपस्थित जनसमूह को बाग- बाग कर झूमने पर विवश कर दिया। तृप्ति शाक्या जैसे ही विघापतिधाम रेलवे मैदान स्थित मंच पर आयी हजारों की संख्या में उपस्थित…

Read More

सुर सम्राज्ञी तृप्ति शाक्या से समस्तीपुर टाउन बेव पोर्टल की विशेष बातचीत, क्लिक कर पढ़े…

लोकगीत तो जीवन की धड़कन हैं : तृप्ति शाक्या पदमाकर सिंह ‘लाला’ की रिपोर्ट  समस्तीपुर/विद्यापतिनगर:- तृप्ति शाक्या भक्ति, भजन व पार्श्व गायन यात्रा के अग्रणी व अहम सारथी है। आज भक्ति गीतों व भजन को सरलता और सफलता से जनमानस के दिल व आम घरों तक पहुंचाने का बहुत बड़ा श्रेय तृप्ति शाक्या को जाता है। संगीत जगत में उनकी मीठी व सुरीली आवाज ने विशेष पहचान बना ली है। वे विद्यापतिनगर में आयोजित छठा विघापति राजकीय महोत्सव के दौरान भजन संध्या कार्यक्रम की प्रस्तुति देने के लिए आयी हुए…

Read More