रेफर युवती की क्या पहले ही हो चुकी थी मौत? इस सवाल पर चिकित्सक और स्वजन भिड़े, एंबुलेंसकर्मी की भी डॉक्टर से नोकझोंक

समस्तीपुर :- समस्तीपुर सदर अस्पताल में इलाज के दौरान युवती की कथित तौर पर मौत के बाद चिकित्सक ने उसे आनन-फानन में पटना रेफर कर दिया। इस मामले में स्वजनों ने चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। साथ ही कहा कि मरीज के मृत होने के बाद भी बेवजह परेशान करने की नीयत से रेफर कर दिया गया। इससे स्वजनों व चिकित्सक के बीच जमकर नोकझोंक हुई। साथ ही चिकित्सक और एंबुलेंस कर्मी के बीच भी नोकझोक हुई। चिकित्सक ने हंगामा को देखते हुए नगर थाना पुलिस को घटना की जानकारी दी। सूचना मिलते ही पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची। फिर वापस लौट गई।

एंबुलेंसकर्मी से भी हुई नोकझोंक :

जानकारी के अनुसार चिकित्सक ने ऑन ड्यूटी एंबुलेंस कर्मी को मरीज को तुरंत ले जाने का निर्देश दिया। एंबुलेंस कर्मी मरीज का पल्स जांचने लगा। इसपर चिकित्सक आक्रोशित हो उठे। उसके बाद उसे फौरन ले जाने को कहा। एंबुलेंस कर्मी ने कहा कि मरीज की मौत हो चुकी है। इसपर चिकित्सक ने सख्त लहजे में कहा डॉक्टर मैं हूं या तुम ? मजबूरन एंबुलेंस कर्मी उसे एंबुलेंस से लेकर पटना जाने लगे। रास्ते में उसने एक बार फिर ताजपुर रेफरल अस्पताल में मरीज की जांच कराई। जहां पर ऑन ड्यूटी चिकित्सक ने उसे मृत बताया। एंबुलेंस कर्मी पुन: मरीज को लेकर वापस लौट गए। एंबुलेंस कर्मी ने घटना की पूरी जानकारी दी। तब जाकर सच का खुलासा हुआ।

मृत लिखने में भी की आनाकानी :

सदर अस्पताल वापस लौटने के बाद नियमत: मृतक को शव वाहन से घर भेजना पड़ता है। इसके लिए पूर्जा पर चिकित्सक द्वारा मृत घोषित लिखा जाना है। पहले तो चिकित्सक उसपर लिखने से आनाकानी करने लगे। फिर स्वजनों द्वारा विरोध जताते हुए हंगामा करने पर मृत लिखा गया। इसके बाद शव वाहन से उसे पहुंचाया गया।

ट्रेन से गिरने से गंभीर रूप से जख्मी हुई थी मरीज :

बताया गया कि मुजफ्फरपुर जिले के शादीपुर मुरौल गांव निवासी गंगा पासवान की पुत्री रिंकू देवी मंगलवार की रात्रि ट्रेन से घर लौट रही थी। इसी क्रम में पूसा के समीप चलती ट्रेन से गिरने से गंभीर रूप से जख्मी हो गई। स्थानीय लोगों की मदद से रेफरल अस्पताल ताजपुर में भर्ती कराया गया। साथ ही मरीज के स्वजन भी तत्काल मौके पर पहुंच गए। ताजपुर में चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे सदर अस्पताल रेफर कर दिया। सदर अस्पताल में चिकित्सक ने तत्काल पूर्जा बनाने के बाद रेफर कर दिया।

चिकित्सक ने एंबुलेंस कर्मी के खिलाफ की शिकायत :

चिकित्सक डॉ. विनायक ने मंगलवार रात्रि की घटना की जानकारी प्रभारी उपाधीक्षक डॉ. हेमंत कुमार सिंह को दी। इसमें बताया कि गंभीर मरीज को बेहतर इलाज के लिए उच्च संस्थान में इलाज के लिए रेफर किया गया था। उसने ईएमटी पर दुव्र्यवहार का आरोप लगाया है।

इस संबंध में सदर अस्पताल समस्तीपुर के प्रभारी उपाधीक्षक डॉ. हेमंत कुमार सिंह का कहना है कि मंगलवार की रात्रि महिला मरीज की मौत से संबंधित मामले की जानकारी मिली है। इसमें चिकित्सक ने एंबुलेंस के ईएमटी पर दुव्र्यवहार करने का आरोप लगाया है। मामले में दोनों से पूछताछ की जाएगी। मरीज को किस परिस्थिति में रेफर किया गया इसकी भी जानकारी ली जा रही है।

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal