रमजान के महीने में खुल जाते हैं जन्नत और रहमत के दरवाजे – कारी सद्दाम अली नदवी

समस्तीपुर [आजाद इदरीसी] :- रमजान-उल-मुबारक का महीना बहुत ही बरकत वाला महीना है। यही वह अफजल महीना है जिसमें कुरआन-ए-पाक नाजिल हुआ। इस माह-ए-मुबारक में अल्लाह की रहमत खुलकर अपने बंदों पर बरसती है। यह बातें समस्तीपुर बेगमपुर निवासी हाजी अफरोज अली के पुत्र कारी सद्दाम अली नदवी ने कही।

उन्होंने बताया कि मुकद्दस रमजान को तीन अशरों में बांटा गया है। पहले अशरे में अल्लाह ताआला की रहमत नेक बंदों पर बरसती है। तीनों अशरे दस-दस दिन के होते हैं। अल्लाह, रमजान के पहले अशरे में रहमत नाजिल करता है और दूसरे अशरे के दस दिनों में अल्लाह अपने नेक बंदों पर मगफिरत नाजिल करता है।

krishna hospital samastipur bihar ADVERTISEMENT

तीसरे अशरे में दस दिनों में अल्लाह अपने नेक बंदों को दोजख से आजादी देता है। इस महीने में रोजा रखने की बरकत से अल्लाह ताआला आदमी के हर अच्छे अमल पर उसका सवाब सात सौ गुना तक बढ़ा देते हैं। रमजान के महीने में अल्लाह की रहमत बंदों पर बरसती हैं।

रमजान के महीने में जन्नत और रहमत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं। जहन्नुम के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं, शैतान को बेड़ियों में जकड़ दिया जाता है। रमजान के महीने में रोजा रखने का अर्थ है, अल्लाह के लिए खुद को समर्पित कर देना।

पूरे रमजान के दौरान रोजेदार को पांचों वक्त की नमाज फर्ज है। रोजे में किसी की बुराई न करें, झूठ न बोलें, गैर इंसानी काम न करें, इफ्तार का समय हो जाए तो बिना देर किए इफ्तार करें और अगर मुमकिन हो तो खजूर से इफ्तार करें।

Impulsa kota doctor engineer samastipur bihar

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *