लॉ की छात्रा मोना क्या सोचती है समस्तीपुर जिले के बारे में पढ़िए उसकी अभिव्यक्ति…

समस्तीपुर हम सब के लिए एक जिला है, लेकिन इसकी मिट्टी पर जन्म लेकर, खेलती, बढ़ती, पढ़ती लॉ की छात्रा मोना क्या सोचती है जिले के बारे में पढ़िए उसकी अभिव्यक्ति। मोना दलसिंहसराय के एक छोटे से गांव मथुरापुर की रहने वाली है और आर बी कॉलेज, दलसिंहसराय से गणित में स्नातक करने के बाद पटना लॉ कॉलेज से एलएलबी कर रही है।

___________________________________________

कुछ नाम ऐसे होते जिसके कानों में पड़ते ही चेहरे पर मुस्कुराहट दस्तक दे जाती है। उनमें से ही एक नाम तुम्हारा है ‘समस्तीपुर’। तुम्हारा नाम कानों में पड़ते ही मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट आ जाती है। मन मानो पंछी बनकर इस नीले आसमान में उड़ना चाहता हो। पांव भी थिरकने लगते हैं, जैसे लगता है उन्हें घुंघरूं मिल गए हों। तुम्हारी हवाएं भी एक सुकून सा दे जाती हैं। जैसे मुझे मेरा बचपन फिर से मिल गया हो। जिसमें ना तो कोई जिम्मेदारियां थी और ना ही कोई बेचैनी। थे तो बस सपने उन चैन भरी नींदों में! …और खिलखिलाती हुई मेरी “मुस्कान”!

तुम्हारी इन्हीं हवाओं ने मुझे सपने बुनना सिखाया है। तुम्हारी जमीं पर पांव रखते ही तुमसे किया वादा भी याद दिलाया कि “तुम्हारी पहचान को शिखर तक पहुंचाना है”

एक बार? अरे नहीं कई बार…! बार – बार याद दिलाती है ये हवाएं। कहना तो तुमसे और भी बहुत कुछ है…. “समस्तीपुर”

लोगों के लिए तुम एक जिला या एक शहर मात्र होगे! लेकिन मेरे लिए मेरी पहचान मेरा वजूद हो तुम। कई खट्टी मीठी यादें जुड़ी है तुमसे! बचपन की शरारतें भी तो तुम्हीं से जुड़ी है। तुम्हारी जमीं मुझे बेवजह ही हँसने की वजह दे जाती है। सपनों को हकीकत में बदलना सिखाती है। तुम्हारे गौरवपूर्ण इतिहास की कहानी कहती इन हवाओं में मानों मुझे जिंदगी जीने की वजह मिलती हो। यूं तो मैंने राज्य और राज्य से बाहर कई शहरों का भ्रमण किया है पर तुम्हारी जमीं मुझे जीवंत लगती है। तुम्हारे लोगो के चेहरे उनकी कर्तव्यनिष्ठ होने का आईना दिखा जाती है। तुम्हारी बेटियां भी बेटों से कम नहीं आंकी जाती। जाने कितनी ही बेटियां तुम्हारी ..हर मोर्चे पर खुद को चट्टान साबित करती नजर आती हैं। सबसे अहम बात जो मुझे कहनी है तुमसे…”तुम्हारी जमीं पर पांव रखते ही वह सुखद अहसास जो मुझसे बार-बार, कई बार कहती है “जिंदगी तुम अभी बहुत बांकी हो..। इस बड़े से नीले आसमान का एक हिस्सा मेरा भी है..!”

तुम्हारी बेटियों में एक बेटी °मोना चौधरी°✍️

Avinash Roy

Chief in Editor at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *