समस्तीपुर में 53.5% है बाल विवाह की दर

समस्तीपुर:- समस्तीपुर जिले में बाल विवाह का दर अधिक है। इसका दुष्प्रभाव न सिर्फ समाज बल्कि राज्य और देश पर भी होता है। हमें अभियान चलाकर बाल विवाह को रोकना होगा। ये बातें मंगलवार को अनुमंडल कार्यालय में आयोजित बाल विवाह उन्मूलन अभियान से जुड़े टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता करते हुए एसडीओ मो शफीक ने कही।

महिला विकास निगम, समाज कल्याण विभाग, एक्शन एड एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस बैठक में जिला समन्वयक अरविंद कुमार ने बताया की समस्तीपुर में 53.5 फीसदी लड़कियों का बाल विवाह होता है।

पिछले 6 माह में सिर्फ सरकारी अस्पतालों में जिले में 3591 नाबालिग बच्चियां शादी के पश्चात मां बन गई। इसका बुरा असर न सिर्फ बच्चियों पर बल्कि समाज पर भी होता है। हमें अभियान चलाकर बाल विवाह का उन्मूलन करना होगा।

बैठक में टास्क फोर्स के प्रखंड समन्वयक राजीव रंजन , सदस्य अनिता राय, एजेएम कॉलेज के प्राचार्य डॉ प्रेम कुमार पांडेय, एसएस कॉलेज हवासपुर के प्राचार्य प्रो अनिल कुमार ठाकुर, जीबी इंटर स्कूल के प्राचार्य मो खालिद हुसैन, एएनडी कॉलेज के प्रतिनिधि श्याम लाल सिंह मौजूद थे।

ADVERTISEMENT

जिला समन्वयक ने कहा कि सरकारी अस्पतालों के अलावा भी बड़ी संख्या में नाबालिग बच्चियां मां बनने को मजबूर हैं क्योंकि उसके माता-पिता बच्चियों की शादी काफी कम उम्र में ही कर देते हैं। इसके लिए अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है।

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा कि स्कूलों में बच्चियों का ड्रॉप आउट होना बाल विवाह का एक बड़ा कारण है। आवश्यकता है कि हम स्कूल-कॉलेजों में छात्राओं के लिए बेहतर माहौल बनाएं। उन्होंने स्कूलों में छात्राओं से प्राप्त शिकायतों के लिए पेटिका लगाने तथा उनके लिए अन्य आवश्यक सुविधाओं को उपलब्ध कराने पर विस्तृत चर्चा की।

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *