समस्तीपुर जिले के कई निजी स्कूल नहीं मान रहे आरटीई

समस्तीपुर:- जिले के कई निजी स्कूल मुफ्त व अनिवार्य शिक्षा कानून के प्रावधानों का पालन नहीं कर रहे हैं। इन स्कूलों पर शिक्षा विभाग विधि सम्मत कार्रवाई करने की तैयारी में है। ऐसे स्कूलों की सूची डीपीओ कार्यालय ने डीएम सह जिला सर्वशिक्षा अभियान के अध्यक्ष के संज्ञान में भी दी गई है।

विधि सम्मत कार्रवाई हुई तो ये सभी निजी स्कूल बंद हो जाएंगे तथा उनके यहां पढ़ने वाले सभी बच्चों का नामांकन बहल के निजी स्कूलों में कराया जाएगा। हाल में डीएम ने शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान आरटीई का पालन नहीं करने वाले निबंधित निजी स्कूलों की सूची तलब करते हुए उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया था।

सूत्र के अनुसार जिले में शिक्षा विभाग में कुल निबंधित निजी स्कूल 540 हैं। इनमें अभी तक केवल 419 स्कूलों ने ही 25 फीसदी गरीब व अलाभकारी बच्चों का नामांकन अपने स्कूल में लिया है। और तो और इन स्कूलों द्वारा नामांकन क्यों नहीं लिया, इसकी रिपोर्ट भी डीपीओ सर्वशिक्षा कार्यालय में जमा नहीं कराया है।

इसको लेकर डीपीओ कार्यालय ने उन्हें कारण बताओ नोटिस भी जारी कर चुका है। जिसका जवाब अभी तक नहीं दिया है जिसे शिक्षा विभाग ने गंभीरता से लिया है।

प्रखंडवार निजी स्कूलों में नामांकन की ताजा स्थिति

डीएम के संज्ञान में दी जानेवाली रिपोर्ट के तहत विभूतिपुर प्रखंड में कुल 48 निबंधित निजी स्कूल हैं जिसमें 35 स्कूलों ने ही नामांकन लिया है। बिथान के पांच निजी स्कूलों में से चार स्कूलों ने, दलसिंहसराय के 40 में 32, हसनपुर के 15 में 11, कल्याणपुर के 41 में 36, खानपुर के 13 में 12, मो. नगर के 22 में 12, मोहनपुर के 15 में 14, मोरवा के 23 में 22,

पटोरी के 22 में 12, पूसा के 29 में 27, रोसड़ा के 35 में 32, सरायरंजन के 20 में 10, समस्तीपुर के 78 में 51, शिवाजी नगर के 22 में 18, सिंघिया के 19 में 14, ताजपुर के 15 में 14, उजियारपुर के 27 में 22, विद्यापतिनगर के 17 में 11 तथा वारिसनगर के 34 स्कूलों में से 28 स्कूलों ने ही नामांकन लिया है।

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *