विद्यापतिनगर थाने की पुलिस का कमाल, दस वर्षीय मासूम पर शांति भंग करने की कार्यवाही पर उठे सवाल

धारा 107 के सम्मन नोटिस के साथ नाबालिक गौतम
ADVERTISEMENT

समस्तीपुर/विद्यापतिनगर [पदमाकर सिंह लाला] :-अपराध नियंत्रण को लेकर पुलिसिया विफलता के बीच पुलिस द्वारा एक नाबालिक पर शांति भंग करने की कार्यवाही पर न्यायालय भी सकते में है। मामला थाना क्षेत्र अंतर्गत गढसिसई गांव से जुङा हुआ है। जहां आपसी विवाद से जुड़े एक कतिपय मामले को लेकर पुलिसिया कार्रवाई ने सवाल खड़े कर दिया है।

 

थाना में दर्ज कई संगीन मामलों के अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में विफल रही पुलिस ने गढसिसई गांव निवासी उपेन्द्र पासवान के दस वर्षीय मासूम पुत्र गौतम कुमार पर शांति भंग करने की कार्यवाही धारा 107 के तहत प्रतिवेदन समर्पित किया। नजीजतन न्यायालय की ओर से जारी नोटिस के बाद मासूम गौतम सहित उसके परिजनों को अब न्यायालय का चक्कर लगाना पड़ रहा है।

शनिवार को एसडीएम कोर्ट में उपस्थित होते ही न्यायालय में यह चर्चा सरेराह शुरू हो गयी। इधर कोर्ट में उपस्थिति के दौरान देखते ही एसडीएम ने विद्यापतिनगर पुलिस की लापरवाही पर जमकर नाराजगी जतायी। एसडीएम विष्णुदेव मंडल ने मासूम गौतम पर पुलिस द्वारा  प्रतिवेदित धारा 107 की कार्यवाही स्थगित करते हुए पुलिसिया कार्यशैली को लेकर आश्चर्य व्यक्त किया।

अब सवाल उठता है कि क्या पुलिस बिना स्थलीय जांच के ही महज आवेदन अथवा किसी सूत्र द्वारा उपलब्ध जानकारी के आधार पर ही कार्रवाई करने के लिए कोर्ट को प्रतिवेदन समर्पित करती है। फिलवक्त विद्यापतिनगर थाने की पुलिस द्वारा की गयी कार्रवाई चर्चा में है। एसडीएम विष्णुदेव मंडल ने बताया कि यह गंभीर लापरवाही है।

समस्तीपुर टाउन संवाददाता पद्माकर सिंह लाला की रिपोर्ट
ADVERTISEMENT

Related posts

Leave a Comment