डायन बताकर मारपीट करने वाले अभियुक्तों को परिवीक्षा अधिनियम का लाभ

समस्तीपुर/दलसिंहसराय:- दलसिंहसराय अनुमण्डल व्यवहार न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी विनीत कुमार सिंह के द्वारा आज शुक्रवार को विचारण वाद संख्या 681/18 एवं अभियोग पत्र संख्या 268/12 में दस अभियुक्तों को धारा 323 भा. द. वि में दोषी पाते हुए परिवीक्षा अधिनियम की धारा 3 के तहत फटकार लगाकर मुक्त कर दिया गया।

बताते चले कि उजियारपुर थानाक्षेत्र के कोरबद्धा निवासी जलेश्वरी देवी के द्वारा 2013 में अभियोग पत्र दायर किया गया था। अभियोग पत्र में बताया गया था कि 30 मई 2013 को प्रातः अभियुक्त कोरबद्धा पतैली निवासी शंकर दास, मनोज दास, विनोद दास, शिवशंकर दास, सुबोध दास पिता भुट्टो दास, भुट्टो दास पिता शशिधर दास, सुंदरी देवी, मंजू देवी, रीता देवी, अनिता देवी अभियोगिनी के घर पहुचकर उसे डायन कहकर मारपीट के साथ अपमानजनक व्यवहार किया।

समस्तीपुर टाउन संवाददाता रमण कुमार की रिपोर्ट 

Related posts

Leave a Comment