नीम चौक धर्मशाला को अवैध कब्जा से मुक्त करावें प्रशासन अन्यथा भाकपा माले करेगी आंदोलन — सुरेन्द्र

समस्तीपुर/ताजपुर:- ताजपुर में अंग्रेजकालीन बड़ा बाजार होने के कारण दूसरे जिले के नजदीकी प्रखंड के लोगों का भी एक मात्र बड़ा बाजार ताजपुर ही रहा है। महिलाएं, बच्चे आदि को भी व्यवसायिक कारण से ठहरना पड़ता था। इसे देखते हुए स्थानीय निवासियों ने नीमचौक पर एक सामुहिक धर्मशाला का निर्माण कराया था। इसमें दूर-दराज से आये महिला-पुरूष-व्यवसायी ठहरते थे। महिलाओं अपने संबंधियों से मिलती-जुलती थी। बगल से खाने-पीने के अलावे जरूरी के अन्य सामान भी खरीदा करते थे। वर्षा एवं धूप के साथ ही रात्री ठहराव भी होता था। पंचायत, सामाजिक-राजनीतिक बैठक, सभा आदि भी लगातार होती थी। यह जगह हमेशा गुलजार रहता था। लेकिन आज यह केयर टेकर द्वारा ही अवैध कब्जा का शिकार है। इसे किराये पर देकर कपड़े, चाय-नाश्ता आदि की दुकान खोलवाकर मोटी कमाई की जा रही है जबकी जरूरतमंद धूप, वर्षा में हमेशा जाम रहने वाले इस चौक पर खड़े देखे जा सकते हैं।

स्थानीय नागरिक, व्यवसायी, जनप्रतिनिधियों के शिकायत पर भाकपा माले ने प्रखंड प्रशासन से मांग किया है कि इसे खाली कराकर, जीर्णोद्वार, शौचालय, पेयजल, बिजली आदि की व्यवस्था कर जनता को सौपा जाए। इस संबंध में कई अधिकारियों से भी वार्ता की गई है। इस मामले को लेकर माले प्रखंड सचिव सह इनौस जिलाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद सिंह के नेतृत्व में एक जाँच टीम मौके पर जाकर स्थिति का जायजा भी लिया। माले नेता सुरेन्द्र ने कहा कि ताजपुर में सरकारी जमीन पर कब्जा करने की प्रवृति बढा़ है। आज मठ- मंदीर, पोखर, धर्मशाला आदि जगहों पर भी दबंगो द्वारा बीडीओ, सीओ को मिलाकर कब्जा कर रहे हैं। भाकपा माले आमजनों को लेकर इस संघर्ष कै मुकाम तक पहुँचाने के लिए कमर कस कर मैदान में उतर चुकी है। माले ने कहा है कि प्रशासन चीर निद्रा से जगे, बगैर किसी दबाब के कारवाई करे अन्यथा आंदोलन झेलने को तैयार रहे।

समस्तीपुर टाउन संवाददाता रमेश शंकर झा की रिपोर्ट 

Related posts

Leave a Comment