समस्तीपुर में डायन बता महिला को परिवार संग गांव से निकाला

समस्तीपुर/सिघिया:- मृत बच्चे को जिंदा नहीं करने पर पहले महिला को डायन बता कपड़े फाड़ डाले व बाल काट दिया गया। फिर मैला पिला दिया। इससे भी जब मन नहीं भरा तो ग्रामीणों ने पंचायत बैठाकर महिला को पूरे परिवार समेत गांव से निकल जाने का फरमान सुना दिया। यह घटना थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई। घटना की जानकारी मिलने पर एसपी दीपक रंजन ने सिंघिया जाकर पीड़ित महिला से मुलाकात की और न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया। एसपी ने बताया कि थानाध्यक्ष को मामले की जांच करने व दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। पीड़ित महिला ने पिछले सोमवार को थाने में मामला दर्ज कराया।

इसमें उसने रामविलास साहू, अमरजीत साहू, राजू साहू, सुनील साहू, विपिन साहू, लक्षमी साहू, सुमित्रा देवी, इसराइल नदाफ, सेयब नदाफ, सबीर नदाफ, जुला खातून, नवराजा खातून, नूर आलम नदाफ, नसीमा खातून समेत 14 लोगों को आरोपित की है। दर्ज मामले में उसने कहा है कि उक्त आरोपित चार सितम्बर की रात घातक हथियारों से लैस होकर मेरे घर में घुस आये। मेरा बाल खींचते हुए बाहर लाकर बोले-तू डायन है। तुम्हीं ने स्वेश के पुत्र को जादू-टोना कर मार दिया है। उसे जिन्दा करों, नहीं तो तुम्हें भी जान से मार दूंगा। इस पर मैंने कहा कि मैं डायन नहीं हूं तो उन लोगों ने मेरा वस्त्र फाड़ दिया। साथ ही जबरन बाल काटकर मैला पिला दिया। बचाने के लिए जब मेरी पुतोहू आयी तो मारपीट कर उसके भी कपड़े फाड़ दिए। कुछ ग्रामीणों के हस्तक्षेप के बाद पंचायत बैठाने की बात पर मुझे छोड़ा गया। उसके बाद नौ सितम्बर को पंचायत बैठी, जिसमें हमें पूरे परिवार के साथ गांव से चले जाने का फरमान पंचों ने सुनाया और मुझे गांव से बाहर कर दिया गया।

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *