इंडेन गैस ग्राहकों के लिए बड़ी खबर – LPG सिलेंडर का बुकिंग नंबर बदला, इंडेन ने जारी किया नया नंबर

अगर आप घरेलू एलपीजी सिलेंडर रिफिल के लिए मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए काम की खबर है। अगर आप इंडेन के ग्राहक हैं तो अब से अब आप पुराने नंबर पर गैस बुक नहीं करा सकते। इंडेन ने अपने ग्राहकों को उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर नया नंबर भेजा है। इसके जरिए आप गैस रिफिल के लिए सिलेंडर बुक करा सकते हैं। वैसे सिलेंडर बुक कराने के लिए चार तरीके हैं।

पहला डिस्ट्रीब्यूटर के यहां जाकर, दूसरा अपने मोबाइल नंबर से कॉल करके, तीसरा ऑन लाइन और चौथा कंपनी द्वारा दिए गए WhatsApp नंबर से। सबसे आसान तरीका अपने नंबर से कंपनी द्वारा दिए नंबर पर कॉल करने वाला है। अगर आप इंडेन के ग्राहक हैं तो अब आप नए नंबर 7718955555 पर कॉल कर गैस बुक करा सकते हैं। या फिर दूसरा आसान तरीका है व्हाट्सअप का। अपने WhatsApp मैसेंजर पर REFILL टाइप कर उसे 7588888824 पर भेज दें, ध्यान रहे आपका  WhatsApp नंबर आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर हो।

सब्सिडी में पिछले एक साल से लगातार कटौती

बता दें एक नवंबर को एलपीजी घरेलू सिलेंडर की कीमतों में बदलाव देखने को मिल सकता है। रसोई गैस सिलेंडर पर सब्सिडी में पिछले एक साल में लगातार कटौती किए जाने से इस दौरान सब्सिडी वाला सिलेंडर 100 रुपए महंगा हो गया है और अब सब्सिडी शून्य हो गई है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले साल जुलाई में 14.2 किलोग्राम वाले रसोई गैस सिलेंडर का बाजार मूल्य यानी बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 637 रुपए था, जो अब घटकर 594 रुपए रह गया है। देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑइल कॉपोर्रेशन ने अपनी वेबसाइट पर सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत के बारे में जानकारी देनी बंद कर दी है। एक साल पहले तक उसकी वेबसाइट पर इसकी जानकारी उपलब्ध होती थी।

1 नवंबर से ओटीपी सुविधा

इधर 1 नवंबर से एलपीजी गैस सिलिंडर (LPG Gas Cylinder) की डिलिवरी को लेकर नियम बदलने जा रहा है। अब गैस सिलिंडर मंगाने के लिए ओटीपी की जरूरत पड़ेगी। तेल कंपनियां गैस की चोरी रोकने और सही उपभोक्ताओं की पहचान के लिए के नई व्यवस्था लागू करने जा रही है। इसे Delivery Authentication Code (DAC) नाम दिया गया है। वर्तमान में सरकार एक साल में 12 LPG सिलिंडर पर सब्सिडी (Subsidy) देती है।

मोबाइल नंबर गलत होने पर तुरंत अपडेट होगा

Delivery Authentication Code (DAC) को सबसे पहले 100 स्मार्ट शहरों में लागू किया जाएगा। इसके लिए पहले ही राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक पायलट प्रोजेक्ट चल रहा है। इस सिस्टम के तहत सिलिंडर की बुकिंग के बाद उपभोक्ता के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कोड भेजा जाएगा। डिलीवरी पर्सन को कोड दिखाने के बाद ही सिलिंडर की डिलीवरी होगी। अगर उपभोक्ता का मोबाइल नंबर अपडेट नहीं है तो डिलीवरी पर्सन एक ऐप के जरिए इसे रियल टाइम में अपडेट करेगा और कोड जेनरेट करेगा। इस व्यवस्था के लागू होने से उन लोगों को परेशानी होगी जिनका पता या मोबाइल नंबर गलत है। गलत जानकारी के कारण उनके गैस सिलिंडर की डिलीवरी बंद हो सकती है। 100 स्मार्ट शहरों के बाद इसे दूसरे शहरों में लागू किया जाएगा। यह सिस्टम कमर्शियल सिलिंडरों पर लागू नहीं होगा।

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal