ATM से बिना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के नहीं निकाल पाएंगे पैसा, अब से ऐसे निकलेंगे पैसे

अगर आप डेबिट कार्ड के जरिए एटीएम से पैसे की निकासी करने जा रहे हैं, तो अभी से ही आप अपने साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर ले जाना मत भूलिए. इसका कारण है और बहुत बड़ा कारण है. वह यह कि अब बिना रजिस्टर्ड मोबाइल के आप एटीएम से पैसे की निकासी नहीं कर सकेंगे.

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई एटीएम से पैसों की निकासी को लेकर आगामी 18 सितंबर से नियमों में बड़ा बदलाव करने जा रहा है. नियमों में बदलाव के बाद एसबीआई का कोई भी ग्राहक साथ में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर ले जाए बिना एटीएम से पैसों की निकासी नहीं कर सकेगा. बैंक की ओर से यह कदम ग्राहकों के साथ होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के लिए उठाया जा रहा है.

क्या होगा नया नियम?

एसबीआई द्वारा एटीएम से पैसों की निकासी के लिए आगामी 18 सितंबर से नियमों में बदलाव किए जाने के बाद उसका कोई भी ग्राहक जब अपने साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर ले जाएगा, तभी पैसा निकाल सकेगा. क्योंकि, एटीएम से होने वाले अनऑथराइज्ड ट्रांजेक्शंस में कमी लाने के मकसद से एसबीआई ने वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आधारित एटीएम से निकासी सुविधा को चौबीसों घंटे लागू करने का फैसला किया है. यह सुविधा देश भर के सभी एसबीआई एटीएम पर लागू होगी. इससे पहले बैंक ने 10 हजार रुपये से ज्यादा की निकासी पर ओटीपी आधारित नकदी निकासी को रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक पेश किया था. यह नियम 1 जनवरी से लागू किया गया था. अब इस सुविधा का विस्तार किया जा रहा है.

नकदी निकासी के लिए करना होगा ये काम

अब 10,000 रुपये या ज्यादा की राशि के लिए एसबीआई के डेबिट कार्डधारकों को हर बार अपनी डेबिट कार्ड पिन के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा गया ओटीपी डालना होगा. बैंक की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि 24×7 ओटीपी आधारित नकदी निकासी की सुविधा को पेश करने के साथ एसबीआई ने एटीएम नकदी लेनदेन में अपने सुरक्षा के स्तर को और मजबूत किया है. बैंक के मुताबिक, इस सुविधा को पूरा दिन लागू करने से एसबीआई डेबिट कार्डधारक धोखाधड़ी, अप्रमाणित निकासी, कार्ड स्किमिंग, कार्ड क्लोनिंग आदि का शिकार होने से बचेंगे.

कैसे निकलेगा ओटीपी से पैसा

बैंक की इस सुविधा के जरिए एसबीआई एटीएम से नकदी निकासी की प्रक्रिया मौजूदा प्रक्रिया से बहुत ज्यादा अलग नहीं होगी. ओटीपी आधारित निकासी सुविधा एसबीआई कार्ड से अन्य बैंक के एटीएम से नकदी निकासी पर लागू नहीं होगी. ओटीपी आधारित प्रक्रिया के तहत जब कार्डधारक एसबीआई एटीएम में निकाली जाने वाली राशि डालेगा, तो एटीएम स्क्रीन पर ओटीपी डालने का विकल्प सामने आ जाएगा. रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर बैंक की ओर से भेजे गए ओटीपी डालने के बाद पैसे की निकासी हो जाएगी.

6 करोड़ से अधिक लोगों को होगा फायदा

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई की पूरे भारत में करीब 22,000 शाखाएं हैं और एटीएम/सीडीएम नेटवर्क का आंकड़ा 58,500 से ज्यादा है. एसबीआई के करीब 6.6 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं. वहीं, 1.5 करोड़ ग्राहक मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं. 30 सितंबर 2019 तक एसबीआई का डिपॉजिट बेस 30 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का था.

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal