गुप्तेश्वर पांडेय ने पूछा, ‘संविधान से ये देश चलेगा या BMC के कानून से?

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई जांच तय मानी जा रही है. बिहार सरकार ने केंद्र से इसको लेकर अनुरोध किया जिसे स्वीकार कर लिया गया है.

इसी बीच टीवी चैनल पर बातचीत के दौरान गुप्तेश्वर पांडे ने मुबंई पुलिस के रवैये पर नाराजगी जताई. उन्होंने कहा कि हम एक आईपीएस अधिकारी (विनय तिवारी) को वहां भेजते हैं. इसकी सूचना दी जाती है. लेकिन जब वे वहां पहुंचते हैं तो आधी रात को ठप्पा लगा दिया जाता है और उन्हें क्वॉरन्टीन कर दिया जाता है. बीएमसी उन्हें छोड़ने के लिए तैयार नहीं है. ये देश संविधान से चलेगा या बीएमसी के कानून से चलेगा? क्या ये सुप्रीम कोर्ट के ऑब्जर्वेशन को भी नहीं मानेंगे? सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के दौरान कहा था कि विनय तिवारी को क्वारंटीन करने से गलत मैसेज गया है।

BMC बोली- अगर पटना सिटी SP को बिहार लौटना है तो पहले कराएं कोरोना टेस्ट

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने कहा कि पटना के एसपी सिटी विनय तिवारी को अगर मुंबई से जाना है तो पहले उनका कोरोना का टेस्ट किया जाएगा.

बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त पी वेलरासू ने पटना के आईजी संजय सिंह द्वारा लिखे गए पत्र का जवाब दिया है. संजय सिंह ने बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को क्वारनटीन से छूट देने के लिए कहा था. वेलरासू ने बिहार में कोरोना के मामलों का हवाला देते हुए किसी भी तरह की छूट देने को खारिज कर दिया.

अधिकारी ने विनय तिवारी को सलाह दी है कि वह ऑनलाइन माध्यम से ही अपने कार्य करें. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग करने से यह सुनिश्चित होगा कि वह किसी के संपर्क में नहीं आ रहे हैं. बता दें कि विनय तिवारी सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की जांच करने के लिए मुंबई पहुंचे थे. लेकिन बीएमसी ने उन्हें क्वारनटीन कर दिया.

बिहार पुलिस जाएगी कोर्ट

वहीं, विनय तिवारी को क्वारनटीन से छूट देने के लिए बिहार पुलिस कोर्ट जाएगी. क्योंकि सुप्रीम कोर्ट से फटकार मिलने के बावजूद बीएमसी विनय तिवारी को छोड़ नहीं रही है. विनय तिवारी को छोड़ने के लिए पटना के आईजी ने मुंबई पुलिस से बात भी की, लेकिन फिर भी विनय तिवारी को क्वारनटीन से छूट नहीं मिली.

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal