कोरोना संकट में राहत पर नीतीश सरकार ने खर्च किए 8538 करोड़,क्वारंटीन सेंटर पर प्रति व्यक्ति 5300 रू का खर्च

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव को लेकर जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित किया. मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों एवं अन्य लोगों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बात की.

सीएम नीतीश ने कहा कि कोरोना संक्रमण से हमें डरना नहीं बल्कि सजग और सचेत रहना है. हर स्तर पर बैठक कर कोरोना संक्रमण की स्थिति के समीक्षा की जा रही है.सीएम नीतीश ने कहा कि इस संकट में जनप्रतिनिधियों की बड़ी भूमिका है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि क्वारंटीन केंद्रों में रखे गए लोगों के लिए सरकार द्वारा औसतन प्रति व्यक्ति 5300 रू व्यय किए जा रहे हैं.मुख्यमंत्री ने जानकारी दी कि सरकार द्वारा स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत कोरोना उन्मूल कोष का गठन किया गया है.उस कोष में 180 करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध है.

इस राशि से दवा,जरूरी मशीनें,टेस्ट किट एवं सामग्री का क्रय स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया जा सकता है.मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना संक्रमण के दौरान अब तक सरकार के द्वारा राहत पहुंचाने के लिए 8538 करोड़ 52 लाख रु व्यय किए गए हैं।

krishna hospital samastipur bihar

सीएम नीतीश ने कहा कि सरकार द्वारा बाहर फंसे लोगों को मुख्यमंत्री राहत कोष से विशेष सहायता योजना के तहत अब तक 20लाख से अधिक लोगों को प्रति व्यक्ति ₹1000 की राशि दी गई है.

बिहार के सभी राशन कार्ड धारियों को एवं राशन कार्ड के लिए चयनित परिवारों को भी प्रति परिवार ₹1000 की राशि दी गई. अब तक एक करोड़ 41 लाख राशन कार्ड धारी तथा 21 लाख गैर राशन कार्ड धारी परिवारों को सहायता दी गई है.इस पर 1620 करोड़ों रू व्यय किए गए हैं.

उन्होंने कहा कि बिहार से बाहर रह रहे लोगों को लॉकडाउ में बाहर में काफी कष्ट सहना पड़ा. वहां की अधिकांश निजी कंपनियों ने उनका ध्यान नहीं रखा. हम चाहते हैं कि किसी को भी मजबूरी में बिहार से बाहर नहीं जाना पड़े. सभी को यही रोजगार मिले.सीएण ने जानकारी दी कि आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा 200 से अधिक आपदा केंद्र चलाए गए, जिसमें प्रतिदिन 74000 लोग लाभान्वित हुए,

Avinash Roy

Editor-in-Chief at Samastipur Town Web Portal