‘हाथ जोड़ के विनती कर रहल बानि घरे रहीं, बाहर मत निकलीं लोग’, राबड़ी देवी ने भोजपुरी में की अपील

कोरोना वायरस के संक्रमण (Corona virus infection) को लेकर मंगलवार मध्यरात्रि से संपूर्ण भारत में लॉकडाउन है. बिहार में ये लॉकडाउन (Lockdown) बीते 23 मार्च से ही लागू है. दरअसल इसका मकसद है कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) बनाए रखें ताकि कोरोना वायरस का इन्फेक्सन एक दूसरे में न फैले.

हालांकि सरकार की इस कवायद को कई जगहों पर लोग नाकाम करते भी नजर आ जाते हैं. ऐसे में बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Former Chief Minister Rabri Devi ) ने भी लोगों से अनुशासन के साथ सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील करते हुए घरों में ही रहने की अपील की है.

माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर ठेठ भोजपुरी में अपनी बात रखते हुए उन्होंने लिखा, याद रखीं अनुशासन के कमी बहुत घातक होई, रउवा लोगन के सहयोग अपेक्षित बा, हाथ जोड़ के विनती कर रहल बानी, घरे रहीं बाहर मत निकलीं लोग.

krishna hospital samastipur bihar ADVERTISEMENT

मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए एक माह का वेतन
बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री राहत कोष में एक माह का वेतन भी दिया है. उन्होंने आम लोगों से भी अपील की है कि इस आपदा में बढ़ चढ़कर लोगों की मदद करें और मुख्यमंत्री राहत कोष में राशि दान दें.

राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट पर लिखा, कोरोना महामारी से लड़ने में पीड़ितों, चिकित्सकों – स्वास्थ्यकर्मियों के बचाव सुरक्षा एवं जाच-उपचार हेतू मेडिकल उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा करती हूं. साथ ही मुश्किल समय में सभी से सहयोग की अपील करती हूं.

बता दें कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने भी देशवासियों से अपील की है कि कोरोना के ख़िलाफ़ जंग लड़ने की दिशा में हम सब का पहला कदम यदि अत्यंत आवश्यक ना हो तो घर के बाहर कदम ना रखें .

Avinash Roy

Chief in Editor at Samastipur Town Web Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *